गौशाले में ‘गंदी बात’

गौशाला में गंदी बात

दोस्तों, मैं निहारिका…मैंने अपनी पहली कहानी में मेरी बेस्ट फ्रेंड पूनम और मेरी लव स्टोरी की शुरुआत और जिंदगी के पहले सेक्स की कहानी आप से शेयर की थी। इस बार मैं आपसे शेयर कर रही हूं। साल 2013 की 1 जनवरी को आधी रात में मेरी और फहीम के बीच हुए क्विक इरोटिक सेक्स सेशन की दास्तां।

बात साल 2012 के आखिरी दिन की है। रात के 10.30 बजे थे। मैं और फहीम फोन पर बात कर रहे थे। फहीम और मेरी मुलाकात हुए पूरे 17 दिन बीत चुके थे। वजह थी साउथ अफ्रीका से आईं फहीम की खाला (मौसी)बिलकिस आंटी। बिलकिस आंटी डेढ़ महीने के वेकेशन पर इंडिया आईं थी। फहीम उन्हें को घुमाने में बिजी रहता था। इसलिए तीन हफ्तों से हमारी मुलाकात नहीं हुई थी। हम दोनों एक दूसरे को बहुत मिस कर रहे थे।

हमदोनों में बातचीत हो रही थी। इस दौरान हम दोनों एक दूसरे को मिस करने और एक दूसरे की याद में करनेवाली हरकतों को शेयर कर रहे थे। घड़ी में 11.35 हो चुके थे। मैंने फहीम से कहा कि…कितना अच्छा होता कि पहले साल की शुरुआत तुम्हारे बाहों में हो।

मेरी बात अभी पूरी भी नहीं हुई थी कि…फहीम ने फोन काट दिया। मैंने रिडायल किया लेकिन उसके बाद फहीम का फोन नहीं लगा। मुझे डर लगने लगा कि कहीं फहीम अपने बड़े भाईजान अजीम भइया के हाथ पकड़ा तो नहीं गया। मैं इसी सोच में डूबी थी कि 12.05 मिनट पर मेरे फोन की घंटी बजी। फहीम का फोन था, मैंने फोन उठाया। तो दूसरी तरफ से फहीम ने कहा कि, पीछे आओ मैं तुम्हारे गौशाले के बाहर खड़ा हूं। मेरे मुंह से अचानक निकला….क्या, पागल हो गए हो क्या तुम। फहीम प्लीज मजाक मत करो। दूसरी तरफ से फहीम ने कहा कि नहीं आओगी तो पूरी रात मैं यहीं खड़ा रहूंगा। पठान की जुबान तुम जानती हो।

मेरा कमरा सेकेंड फ्लोर पर सबसे आखिरी में था। लिहाजा पीछे का दरवाजा खोलकर गौशाला में आने में मुझे कोई खास परेशानी नहीं हुई। शॉल लपेट कर धीरे से पीछे का दरवाजा खोलकर गौशाले में आई। गौशाले का बाहर का दरवाजा मैंने खोला तो देखा…हूड पहने फहीम खड़ा है। मैं कुछ कहती इससे पहले ही फहीम अंदर आ गया। अंदर आते ही मैंने उससे कहा कि पागल हो तुम बिलकुल। मेरे सवाल का जवाब देने के बदले फहीम ने मुझे पकड़कर चूमना शुरु कर दिया। एक हफ्ते में 3-4 दिनों तक होनेवाली हमारी मुलाकात। पूरे 17 दिनों बाद हो रही थी। इसलिए मैं भी ताबड़तोड़ फहीम को चूमने लगी। दोनों एक दूसरे को हग कर लिप किस कर रहे थे। फहीम की हथेलियां इस दौरान अपनी पसंदीदा जगहों जैसे मेरे बुब्स और हिप्स पर पहुंचने लगे थे। अचानक फहीम ने कहा कि…अबे ओ मुझसे मिलने को तू इतनी बेसब्र थी कि इतनी ठंड में भी सिर्फ नाइटी पहनकर आ गई है। सच कहूं तो फहीम के फोन आने के बाद मुझे उसके बाहों में आने की ऐसी बेतबी थी कि, सिर्फ नाइटी में शॉल लपेट कर ही गौशाले में आ गई थी।

फहीम ने जब जाना कि मैं सिर्फ नाइटी में हूं वो भी बिना ब्रा-पैंटी के। तो उसने नीचे से पकड़कर मेरी नाइटी गर्दन तक उठा दी। मैं अंदर से पूरी नंगी थी। मुंझे न्यूड देखकर फहीम पागलों की तरह मेरे बुब्स को दबाने लगा और मेरी चूत और हिप्स पर अपनी मजबूत हथेलियां रगड़ने लगा। फहीम ने कहा कि….जान तुम तो मेरे लंड के लिए बावली हो गई लगती हो। मैंने फहीम से कहा ठंड लग रही है। तो वो मेरी नाइटी के अंदर घुस गया और गिरी हुई नाइटी के बीच वो मेरे बूब्स, हिप्स और चूत से खेलने लगा। मैंने कहा…फहीम पागल हो गए हो क्या….पहली बार देख रहे हो इडियट। बुब्स पीने के दौरान नाइटी के ऊपर से ही मैंने उसके सिर को अपने बुब्स में दबा दिया था।

15-20 मिनट तक खड़े खड़े मेरे बुब्स की चूसाई और चूत-गांड की रगड़ाई के बाद मैं पूरी तरह गरम हो चुकी थी। मैंने फहीम से कहा….मुझे छोटे बाबू को देखना है। बहुत दिन हो गए उसे देखे और उसके साथ खेले हुए। इतना सुनते ही फहीम नाइटी के बाहर आ गया और कहा कि…लो मेरी जान सब तुम्हारा ही है। क्यों तड़प रही हो। मैंने झट से लोअर के ऊपर से ही फहीम का फौलादी लंड पकड़ लिया। लंड के ऊपरी हिस्से से लेकर बॉल तक मैं सहलाने लगी। इस दौरान फहीम मुझे लिपकिस करता रहा। मैंने फहीम से कहा…तुम्हारा छोटा बाबू मेरे लिए तुम्हें परेशान नहीं करता था। इसे अपनी छोटी सहेली की याद नहीं आती थी। मेरे सवालों को अनसुना कर फहीम मेरी लिप को किस करते हुए एक हाथ से मेरे बुब्स और एक हाथ से हिप्स दबाता जा रहा था।

तभी मुझे ख्याल आया कि ये चुदाई सेशन मेरे घर के गौशाले में चल रहा है। इसलिए जो करना है जल्दी करो। मैंने झट से फहीम का लंड उसके लोअर से बाहर निकाला। 17 दिनों बाद 9 लंच के हथौड़े जैसे लंड के दर्शन साल के पहले दिन और हसीन लग रहा था। मेरे हाथ लगाने भर से ही फहीम का फौलादी लंड अपने शबाब पर आ चुका था। इसलिए मैं घुटनों के बाल बैठकर जल्दी से उसे अपने मुंह में ले लिया। ओओओओ…..पपपपपपपप। मेरी और फहीम के बीच हुई पहली चुदाई और इस गौशाला सेक्स सेशन के दरम्यान चूत और लंड का मिलन दर्जनों बार हो चुका था।

इसलिए मैं अब थोड़ी बेशर्म हो चली थी। और फहीम के फौलादी मुस्लिम लंड को झेलने की ताकत भी अब मेरी राजपूत चूत में आ चुकी थी। मैंने फहीम के लंड और बॉल को चूस चूसकर पूरा गीला कर दिया। फहीम ने मुझे उठाया और नाद( जिसमें गाय खाना खाती है) पर मेरी कमर टिकाकर आधा लिटा दिया। अपनी गोरी जांघों को फैलाकर अपनी चूत मैंने पूरी तरह खोल दी। ताकि साल 2013 का शानदार आगाज फहीम के फौलादी लंड से कर सकूं। मेरी चूत में फहीम का लंड सटासट अंदर बाहर आनेजाने लगा। आआहहहहहूह….फहीम मेरे राजा…..मेरा बाबूबूबू……आईईईईई……मम्मीमीमी….फहीम बच्चा मेरा मारो मारो प्लीजजजजजजजजज

पहले इसी लंड को देखकर तेरी चूत फटती थी…अब बेखौफ ले रही है….ले साली और लंड ले….कहकर फहीम ताबड़तोड़ धक्के मार रहा था।
गौशाले में ख़ड़ी मेरी गायें मुझे फहीम से चुदते देख रही थीं। फहीम उनकी तरफ देखकर कह रहा था कि देख तेरी मालिकन का सांड हूं मैं……तेरी मालिकन मेरी गाय है। फिर फहीम ने मुझे नाद पकड़वाकर आगे की तरफ झुका दिया। और पीछे से मेरी चूत की जबरदस्त चुदाई शुरु कर दी।

सच कहूं तो मुझे फहीम के लंड की लत लग चुकी थी। उसके लंड का रफ टफ हेड मेरी चूत को जब अंदर से रगड़ता था तो….मैं सातवें आसमान पर पहुंच जाती थी। पीछे से धक्के मारते मारते फहीम मेरे बुब्स को हाथों में लेकर मसलता जा रहा था। दर्द हो रहा था….लेकिन अब मैं इस दर्द की आदी हो चुकी थी। और मुझे फहीम के हाथों अपने जिस्म को रौंदवाना अच्छा लगने लगा था। लगभग पौने दो घंटे तक गौशाले में चली चुदाई के बाद फहीम का 17 दिनों से रुका गरम लावा मेरी चूत को भरकर बाहर बहने लगा था। जो मेरी जांघों से सरकता हुआ नीचे जा रहा था। मैं भी अब तृप्त हो चुकी थी। फहीम मेरे हिप्स पर अपने लंड को मार मारकर बचाखुचा लावा गिरा रहा था। जाते जाते भी फहीम ने बदमाशी कर दी।

गौशाले का दरवाजा बंद करते समय मुझे मुड़ने को कहा….और फिर नाइटी के ऊपर से ही मेरी गांड में अपनी उंगली घुसाते हुए कहा कि…जान रुम में जाकर अपनी गांड में फंसी हुई नाइटी निकालना। बहुत इडियट है वो

आपकी निहारिका

Related Post

Share on TumblrTweet about this on TwitterShare on RedditShare on VKShare on Google+Pin on PinterestEmail this to someone
This post was submitted by a random interfaithxxx reader/fan.
You can also submit any related content to be posted here.

9 Comments

  1. Aptly written !!
    Wanted to chat with you Niharika.

  2. yes nita… Please niharika tum apna fb ya twitter bata do

  3. wow Niharika sach me bahto lucky ho jo tumko itna tagda pathan mard ka lund mila sach me abhto maja ata hai tumhri kahani padh akr but plesae holi wali bhi kahani batavo aur kya tumhri payri gand nahi amri kay details bata do please

  4. Hindu cow ki pyas Muslim saand se chudwane se hi bujhti Hai

  5. Wow niharika.. life k asli maze le rahi ho tum hi.. bahot badhiya..

    kik: deviarti
    fb/gmail: [email protected]

  6. Hi Mere Randi Chudaakd Muslim Lund ki Bhooki Behnoo Nisha,
    Neeta, Arti
    Kisi hoo Saab ki chut Kis kis ki lund ki juice se full hai

    ADD ME KIK & SNAP CHAT ID pnkj78691, Tweeter pnkj7869, (FB ID) [email protected] CHUT ADD KARO

    • U Punjabi hindus r real genius. Ability to market yourself effectively is in your DNA. Btw what your sexual preferences are ?

  7. yeh gandi baat nahi bhut himmat ki baat hai batao fahim kaise akale ghar me ghus kar Niharika ko bina dare chod kar chala jata hai aur hum log msrse darr ke unke mohollo me bhi nahi jaa patae

    • Bilkul sahi baat amit meri sis ka bf rijwan bhi aksar bolcony se uskae kamre me ghus jata hai aur kai ghanto baad aram se jata hai puri colony yeh baat janti hai ar usko rok panae ki himmat nahi padti

Leave a comment

Your email address will not be published.


*