बट बाईट और वैलेंटाइन : पार्ट 2

Part 1 http://interfaithxxx.com/बट-बाइट-और-वैलेंटाइन

पहली कड़ी में आपने वैलेंटाइन डे के दिन सात महीने बाद फहीम और मेरे मिलन और इस मिलन को यादगार बनाने की फहीम की शैतानी तैयारियों की दास्तां सुनी थी। अब आगे…
69 के पोजीशन में मैं फहीम के फौलादी लंड को चूस चूस कर गीला कर चुकी थी। और वो मेरी चूत और गांड से खिलवाड़ करते हुए….होल को ढीला करने में जुटा था। बीच बीच में वो मेरी गांड में अपनी उंगली डालने की कोशिश करता….और मैं जिंदगी में पहली बार अपनी गांड में एक अजीब तरह की गुदगुदी महसूस कर रही थी। मेरे उभरे हुए हिप्स पर फहीम की फौलादी हथेलियां रह रहकर थाप बजा रही थीं। चट…चट…चटाक । गोरी और सहेज संवार कर रखे हिप्स पर फहीम की फौलादी हथेलियां निशान बनाते जा रही थीं। फहीम मेरी चूत के होंठो को अपने मुंह में दबाए हुए जोर जोर से हिप्स को मसलता जा रहा था। और इस दौरान मेरे पिछले दरवाजे पर होनेवाला तनाव मेरी बेचैनी और डर को बढ़ाते जा रहे थे।

फहीम आज तुम मेरे हिप्स की इतनी मालिश क्यों कर रहे हो ? उम्मीद के मुताबिक ही उसने जवाब दिया कि नीहू…आज पिछले दरवाजे से ही मेरे छोटे नवाब अंदर जाएंगे। प्लीज फहीम डराओ मत। हाउ यू बिलीव…कि मैं बर्दाश्त कर लूंगी। तुम्हारा हथौड़े जैसा लंड…वो भी एनली? देख नीहू…पहली बार तो दर्द करेगा ही…लेकिन मैं जानता हूं कि तू असली राजपूतानी है दर्द बर्दाश्त कर लेगी। और रानी यकीन मान एक बार तू दर्द बर्दाश्त कर ली ना…तो फिर सेक्स को ज्यादा इन्जॉय कर पाएगी।

अब मैं लंड के बगल में बैठकर हाथ से फहीम के लंड को सहलाते हुए…उससे पिछवाड़ा ना मारने की मिन्नत कर रही थी।प्लीज फहीम…यू हैव एक्ट्रीम ह्यूज….आई कांट बेअर बेबी….प्लीज बिलीव मी….घर भी नहीं जा पाउंगी। मेरी बात सुनते ही फहीम मुस्कुराते हुए कि…क्या तेरी दोस्त 3 तारीख को घर नहीं गई थी क्या? फहीम भाई ने उस दिन तेरी फ्रेंड के पिछवाड़े में डाला था। अरे नीहू….तू पिछवाड़े में डलवाने में इतना डर क्यों रही है। इसके साथ ही फहीम ने अपने मोबाइल पर कई लड़कियों का एनल सेक्स एन्जॉय करते हुए क्लिप दिखाया। सभी क्लिप देसी ही थे। एक क्लिप को देखकर मैंने कहा…देखो इडियट कितना रो रही है….यू आर सो रूथलेस फहीम।

फहीम इस बीच मेरे बूब्स को चूसते हुए मेरी चूत में अपनी उंगलियां फिरा रहा था। और मैं उसके मूसल जैसे लंड को हाथ में लेकर हिलाते हुए उसके बॉल को बीच बीच में सहला रही थी। उधर बगल के रुम से पूनम के कराहने की आवाज आ रही थी। आबिद….तुम्हें मेरी कसम आज नहीं….उस दिन बहुत दर्द हुआ था हनी। आज रहम करो। मैं समझ गई कि आज दोनों पठान हम दोनों राजपूत लड़कियों की गरमी पिछवाड़े से निकालनेवाले हैं।

फहीम ने चालाकी से एनल सेक्स ना करने का भरोसा देकर…मुझे ड़ॉगी पोजिशन में करके पीछे चला गया। मेरी खुली चूत पर अपना लंड रगड़ते हुए फहीम मेरे एनल होल को अपनी उंगलियों से फैलाने की कोशिश करने लगा। फहीम फिर क्या करने लगे….नहीं जानू प्लीज मर जाउंगी। आई कान्ट बेअर।
इस बीच फहीम अपने भारी भरकम लंड से मेरी चूत और गांड पर जोर जोर से थपकी देने लगा। एक हाथ बढ़ाकर उसने मेरी बायीं बुब्स को हाथ में ले लिया। और उसे मसलने लगा। आईई….क्या कर रहे हो फहीम। मेरा चेहरा चूंकि नीचे बिस्तर की तरफ था। इसलिए मैं ध्यान नहीं दे सकी और इस बीच फहीम ने एक जेल निकालकर मेरे हिप्स होल और फिर अपने लंड के हेड पर लगा चुका था। मैं समझ चुकी थी कि कैम पर हिप्स के हिलकोरे और उससे ज्यादा आबिद को एनल सेक्स की इजाजत देकर….पठान लंड को अब हमारी राजपूती गांड का स्वाद लग चुका है। और आज फहीम मेरी गांड में घमासान मचाने का मन बना चुका है।
सो मैंने भारी मन से कहा…फहीम ट्राई करना जानू…लेकिन जब अनबेरेवल होगा तो प्लीज फोर्सली मत करना। रहम करना। इतना सुनते ही फहीम की बांहें खिल गईं। मेरे मुलायम गांड पर हथौड़े जैसा लंड गड़ाते हुए वो मेरे ऊपर आ गया। और धीरे से कान में बोला….थैक यू नीहू…डोन्ट वरी। आराम से करुंगा।

डरते सहमते हुए मैंने अपनी गांड भरसक फैला दी। ताकि दर्द कम से कम हो। जेल लगाने की वजह से मेरा होल मुलायम हो गया था। फहीम ने जैसे ही अपने लंड का मुंह मेरी गांड की छेद पर रखा। डर से मेरे पैर कांपने लगे। प्लीज फहीम मत करो….नहीं झेल पाउंगी।
कुछ नहीं होगा। और इतना कहते ही फहीम ने इस बीच अपनी दो उंगलियों से मेरे गांड में बनाए रास्ते को देखते हुए…लंड का हेड छेद पर रखकर हल्का सा धक्का दिया।..आईईईईई……..मम्मीमी……फहीम…..नानानाना प्लीज नहीं। ओह नो फहीम। मैं छटपटाकर फहीम के चंगुल से निकला चाही। लेकिन अफसोस तब तक देर हो चुकी थी। मेरी कमसिन जिस्म पठान फौलाद की गिरफ्त में पूरी तरह आ चुका था।

अपनी भारी भरकम जांघों से मेरी टांगों को दबाते हुए फहीम ने एक हल्का सा झटका मारा। ओओ मम्मीमी मर गई…….फहीम नहीं नहीं प्लीज प्लीज प्लीज मेरे आंखों से आंसू निकलने लगे और मैं दर्द से रोने लगी। मेरा गला सूख गया…आंख के सामने अंधेरा छाने लगा….महसूस हुआ कि मेरे पिछवाड़े में किसी ने बिल्कुल गरम सलाखें घुसा दी हैं। फहीम मेरे दोनों बुब्स को जोर से दबाते हुए कमर का जोर मेरी गांड पर लगा रहा था। और मैं अपना दम साधकर हिप्स होल को बंद करने की कोशिश कर रही थी। काफी देर की मशक्कत के बाद आखिरकार मैं जीत गई।

फहीम मेरे पिछवाड़े में अपने छोटे नवाब की एंट्री नहीं करा सका। गुस्से में उसने मेरी पीठ पर दांत गडा दिए। ओ नोनोनो फहीम…..डोन्ट बाइट मी। प्लीज ट्राई टू अंडरस्टैंड जानू….। चुप साली वो कैसे झेल गई…आबिद का। तू नखड़े कर रही है। फहीम इस वक्त एकदम घायल शेर की तरह था। और मैं उसके बिस्तर पर नंगी पड़ी कमसिन शिकार। साली तुझे बुब्स चूसवाने का शौक है ना…आज तेरी ऐसी बुब्स चूसुउंगा कि तू भी याद रखेगी।

इसके बाद आप यकीन नहीं करेंगे। फहीम ने मेरे शरीर के ना दिखनेवाली जगहों पर ताबड़तोड़ लव बाइट देने शुरु कर दिया। और ये बाइट कहीं लाल, कहीं गहरे लाल, कहीं ब्लड रेड तो कहीं कहीं काले निशान के तौर पर मेरे बुब्स, पीठ, कमर, पूसी के नजदीक दोनों जांघों पर, इनर थाई, जांघ और हिप्स पर चस्पा हो गए। मुझे एनली ना कर पाने की खीझ में फहीम ने डॉगी पोज में मेरी चूत के चिथड़े उड़ाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी।
सात महीने बाद वैलेंटाइन डे के दिन फहीम के फौलादी लंड ने मेरे कमसिन राजपूत जिस्म से गिन गिनकर भड़ास निकाली। उस दिन फहीम ने पहली बार जबरन मेरे बाल पकड़कर अपने मुस्लिम वीर्य का लावा मेरे चेहरे पर उड़ेला।

खैर…इतने दिनों बाद पठान के लंड का डोज लेकर मैं भीतर से खुद को तरोताजा महसूस करने लगी थी। हालांकि वैलेंटाइन डे पर फहीम का वहशीपन कुछ अजीब लगा। लेकिन फहीम के फौलादी लंड का ये एहसास भी दिलकश ही था। इधर मैं उधर पूनम…वैलेंटाइन डे पर मुस्लिम वीर्य का प्रिसियस गिफ्ट कबूल कर घर की तरफ चल दिए।

आपकी निहारिका

Related Post

Share on TumblrTweet about this on TwitterShare on RedditShare on VKShare on Google+Pin on PinterestEmail this to someone
This post was submitted by a random interfaithxxx reader/fan.
You can also submit any related content to be posted here.

8 Comments

  1. Compelled to believe that your story is right. So well written Nihu. Yaar I start thinking ki kash main teri jagah hoti. woow so erotic and passionate. I fantasize to do adultery by fucking any muslim male, but get scared. Thanks for the story.

  2. niharika musalman hindu aurak ki gand jarur marate h .meri married bahan ki bhi gand bilkul faila di hai usake muslim lover ne.ab fahim tumhari gand ko bhi pel pel kr bada kr dega.isme tumako chut chudawane se jyada gand marawane me maza aayega.suruat me thoda ajib lagata h lekin bad me bahut maza aayega ap ko.

  3. Anal sex me pain to hota hi hai but 5-6 baar karne ke baad normal ho jata hai… Aur muslim k alawa anal sex koi kar bhi nahi sakta

  4. ye sach h ki muslim log aurato ki gand jarur marate h .sari muslim aurato ki gand badi hoti kyoki unki gand unke muslim husband mar mar k bada kr dete h .yahi hal un hindu aurato ka bhi hota h jo musalman se apni chut chudwati h.kyo ki ek bar kisi muslim se chut me uska lund dalawa liya to ye pakka h ki us hindu aurat ki gand fatani h.bina gand fade musalman chhod nahi sakata us hindu aurat ko.

  5. Mai randi nahi hu samjhe, unsatisfied wife hu

Leave a comment

Your email address will not be published.


*