मुस्लिम लौंडे ने मुझे चोदा

हेल्लो मेरा नाम सीता है में दिल्ली में रहती हु मेरे पति का नाम निखिल है वो मुझे बहुत प्यार करते है और मैं भी उन्हें बहुत प्यार करती हु हमारी शादी को चार साल हो गए है लेकिन हमें कोई बच्चा नही है हम दोनों दिल्ली में अकेले ही रहते है । मेरी उम्र 26 साल है मेरे बूब्स मोठे है और मेरा साइज़ 36- 34-36 है।

यह घटना आज से 3 महीने पहले की है मेरा घर एक मुस्लिम कॉलोनी के पास है उसके पास ही एक बाजार लगता है जिसे केवल मुस्लिम लड़के ही चलते है और वह सब सामान सस्ता मिलता है वह बहुत भीड़ रहती है मई वह अक्सर जाती हु क्योंकि वह सामान बहुत सस्ता मिलता है में एक दिन वह गयी तो रोज की तरह वह बहुत भोड़ थी गर्मी का मौसम था और मैंने रेड कलर की साड़ी और डीप नैक वाला ब्लौसे पहन रखा था जिसमे थोड़े से झुकने पर ही मेरे बूब्स बहुत दिख रहे थे।

लेकिन मुझे शुरू से ही सेक्सी कपडे पहनने का शौक है अब मई बाजार में अआई तो वह रहने वाले मुस्लिम लड़को की नजर अब मुझ पर पड़ी तो मेरे पास सैट कर चले लगे कोई मेरे बूब्स पर हाथ लगा जाता तो कोई मेरी गांड पर और कई लड़के तो मुझसे ऐसे चिपक कर चल रहे थे की उनके लण्ड का अहसास तक मुझे हो रहा था। मुझे उस दिन ब्रा पेंटी खरीदनी थी इसलिए मै एक दुकान पर गयी जहा एक दुकानदार जिसकी उम्र कोई 40 साल की होगी बैठ था उसकी लंबी दाडी थी उसने निले कलर की लुंगी पहन राखी थी मेने उससे कहा भाईसाहब कोई मेरे नाप कि ब्रा दिखा दो। उसने जैसे ही मुझे देखा देखता ही रह गया उसने सैयद इसे पहले इतनी सूंदर हिन्दू औरत नहीं देखि थी शायद वो कभी मेरे चेहरे तो कभी मेरे बूब्स को देखे जो की झुकने के कारन आधे ब्लाउस से बहार आ गए थे उसने कहा मेडम कोनसे कलर की पहनोगी । आप ही बता दो तो उसने कहा मेडम आपका कलर गोरा है तो आपके काले कलर की ब्रा अछि रहेगी। ओके मेडम तो क्या साइज़ है आपका उसने मुझसे पूछा वो दुकानदार मुझे भ गया था क्योंकि एक तो वो मुस्लिम था और दूसरा उसकी वो लंबी लंबी दाढ़ी थी मैंने कहा आपही बता दो क्या साइज़ है मेरा अब वो समझ गया था की इस हिन्दू औरत की चूत में खुजली हो रही है। इसलिए उसने मुझसे कहा की वैसे तो आपका साइज़ 36 है पर आप एक बार चेक कर लो अंदर चेंजिंग रूम है । मैं ओके कह कर चेंजिंग रूम में चली गयी लेकिन चेंजिंग रूम में एक शीशा लगा हुआ था लेकिन उसमे कोई गेट नही था उसमे एक छोटा सा पर्दा था जो कई उस रूम को पूरी तरह से कवर कर पाने में असमर्थ था ।

पहले मैंने अपनी साडी की पिन हटाई अब धीरे धीरे मैं एक एक हुक खोलने लगी ताभि मेरा ध्यान उस शीशे पर गया वो दुकानदार जिसका नाम युसूफ था वो मुझे उस शीशे से घूर रहा है एक मुस्लिम लड़का मुझे घूर रहा है ये सोचकर ही मेरे पुरे शारीर में चीटिया सी रेंगने लगी मई मन ही मन मुस्करा रही थी। अब मई चाहती थी की वो मुझे देखे अब मैंने अपने ब्लौसे के सरे हुक खोल दिए। अब युसूफ की आँखे फ़ैल गयी थी उसका पूरा ध्यान मुझ पर ही था उस दिन मैंने पिंक कलर की ब्रा पहन राखी थी।अब मैंने अपनी पिंक कलर कई ब्रा भी खोल दी अब मेरे बूब्स बिलकुल आज़ाद हो चुके थे। अब युसूफ आँख फाड़ फाड़ के मेरे रूम की तरफ ही देख रहा था अब मैंने वो काले कलर की ब्रा जो युसूफ ने दी थी मैंने उसे पहन तो मुझे वो टाइट लगी मुझे पता लग गया था की युसूफ ने जनभुझकर मुझे टाइट ब्रा दी है मैंने वही से उस दुकानदार युसूफ को आवाज लगायी तो वो बहार परदे के पास आकर बोला क्या हुआ मेडम मैंने कहा की ये ब्रा टाइट है इसका हुक ही बंद नही हो रहा है। युसूफ बोलो मेडम ये इम्पोर्टेड ब्रा है ये लगता है लेकिन आप पर फिट बैठेगी आप कहे तो हुक बंद करने में मई आपकी मदद कर दू।

मैंने कहा ओके आ जाओ और ये ठीक कर दो अब वो जस्ट मेरे सामने कहाडा था और मई एक ब्राह्मण हिन्दू औरत ब्रा में एक मुस्लमान दुकानदार के सामने ब्रा में खड़ी थी। उसने मेरे ब्रा के हुक को बंद करने की कोसिस कई लेकिन वो बबर थी ही टाइट उसने कहा की मेडम मई आपके लिए दूसरा साइज़ लता हु ऐसा कहकर जैसे ही उसने हाथ हटाया ब्रा निचे गिर गयी क्योंकि मेरा हाथ ब्रा पर से पहले से ही हटा हुआ था जैसे ही ब्रा निचे गिरी मेरे बूब्स उसके सामने नंगे हो गए मेरे निप्पले कड़क हो गए और मैंने देखा की उसकी लुंगी में से भी उभर सा दिख रहा था। जैसे तैसे उसने अपने आपको कंट्रोल किया अब मैंने अपने दोनों हाथ अपने बूब्स पर रख लिए वो ब्रा को उठा कर ले गया और दूसरी ब्रा लेकर आया और बोला मेडम अब मैं दूसरी ब्रा लाया हु लेकिन पहले मुझे आपका सइज़ चेक कर लेने दो मैं शर्मा गयी मैंने सोच लिया था की आज ये ब्राह्मण चूत एक मुस्लिम लण्ड से चुदने वाली थी लेकिन मैंने उससे कहा नही रहने दो मैं ही पहन लुंगी लेकिन वो दुकानदार बोला नही मेडम मुझे एक बार ढंग से चेक कर लेने दो और उसने मेरे दोना हाथ मरे बूब्स से हटा दिए।

अब मेरे दोनों बूब्स बिलकुल नंगे थे और उन पर भूरे कलर कई घुंडी तन कर सख्त हो चुकी थी। अब युसूफ ने अपने दोनों हाथ मेरे बूब्स पर रख दिए और धीरे धीरे उन पर घुमाने लगा अब धीरे दिए मेरे बूब्स दबा रहा था मैंने कहा की कर लिए क्या चेक भैया तो उसने ब्रा को फेक दिया और बोला सअली रंडी चेक तो अब तुझे पूरा करूँगा तेरे बूब्स भी और तेरी चूत भी। चुदना तो मई भी चाहती थी लेकिन दिखावे के लिए बोली प्लीज़् ऐसा मत करो मई शादीशुदा हु। तो वो दुकानदार युसूफ बोला साली मुझे बेवकूफ ससमझती है मुझे पता है की साली तुम हिन्दू रंडिया चुदवाने का कोई मोका नहीं छोड़ती हो।

तुम्हारे पतियो का तो लण्ड उठता नही है और ऐसा कहकर उस्ने मेरी साडी खोल दी और मेरे पेटीकोट का नाडा भी खोल दिया । अब जब मैंने सोचा की अब शर्म में कुछ नही रखा है इसलिए मन से चुदवाओ और मैंने उस्की लुंगी खोल दी अब मैं सिर्फ पइन पेंटी में थी और युसूफ ने व्हितव बनियान और ब्लैक चड्डी पहन राखी थी मैंने कहा की अपनि इस रंडी को अपना हथियार नही दिखाओगे कया तो ययूसुफ बोला मेरी जान तुम खुद ही खोलकर देख लो। अब मैंने उसकी चड्डी खोल दी और उसने मेरी पेंटी खोल दी अबी हम दोनों बिलकुल नंगे खड़े थे अब युसूफ ने मेरा मुंगलसूत्र खोल और अपने लोडे पर बांध लिया और बोला आज से यइ तेरा पति है।

और बोला ले चूस मैंने देखा की उसका लैंड 9 इंच लंबा है जबकि मेरा पति का तो उसका आधा भी नही था अब मैंने उसके लैंड को आइसक्रीम की जैसे मुह में लेकर चूसने लग गयी। उसका लैंड बहुत ही मोटा था वो मेरे मुह ।इ भी नही समां रहा था। वो बोला तुम हिन्दू लडकिया एकदम चुदककेड होती हो अब उसने अपना लैंड मेरे मुह से निकल और मुझे खड़ा कर दिया और खुद मेरी चूत चाटने लगा मेरी आँखे बंद हो गयी थी मुझे बहुत मज़ा आ रहा था मेरे पति ने कभी मेरी चूत नही चाटी थी। और ये मुस्लिम आदमी ने चूत कहटकर मुझे बहुत मज़ा डीइया था। एक हाथ से मेरे बूब्स दबा रहा था और मेरी चूत चाट रहा था। अब उसने मुझे लिटा दिया और मेरी चूत पर अपना लण्ड लगा दिया और एक जोर का झटका मार तो मेरी चीख निकल गयी क्योंकि उसका आधा भी लण्ड अंदर नही गया था और मेरी चूत ऐसा लगा की पेक हो गयी हो मैंने उसे जोर से कास लिया अब उसने 2-3 झटको में अपना पूरा लण्ड मेरी चूत में पहुंच दिया अब मुझे बहुत अच्छा लगने लगा थाअब वो धीरे धीरे और कभी तेज़ तेज़ झटके मार रहा था। मुझे आज तक इतना मज़ा कभी अनहि आया था अब 30 मिनिट चुदाई करने के बाद उसने अपना लण्ड निकाला और सारा वीर्य मेरे मुह पर छोड़ दिया।

मुझे इतनी संतुस्ती कभी नही मिली थी अब युऑफ ने मेरे होठो पैर एक बहुत हिबद किश किया और बोला जानेमन कैसा लगा मैंने भी उसे किस किया और बोली आज से मैं तुम्हारी गुलाम हु तुम्हारा हक़ मेरे पति से ज्यादा है और तुम जब चाहो मुझे चोद सकते हो ।ऐसा कह कर मैं आने लगी तो उसने मेरी लिंक पेंटी रख ली और मैंने उसकी ब्लैक चड्डी। उसने मेरा फोन नम्बर लिया और अपने घर का एड्रेस देकर घर आ गयी घर पआर पअति आ चुके थे उन्होंने पूछा कर लई क्या शपिङ्ग । मैंने कआहा हा कर ली । आगे क्या हुआ मेरी लाइफ में जानने के लिए पढ़ते रहे इंटरफेथ पर।
आपको मेरी ये रियल कहानी कैसी लगी मेल जरूर करें [email protected]

Related Post

Share on TumblrTweet about this on TwitterShare on RedditShare on VKShare on Google+Pin on PinterestEmail this to someone
This post was submitted by a random interfaithxxx reader/fan.
You can also submit any related content to be posted here.

2 Comments

  1. mast story h ,sita ko yusuf ki 3rd bivi banao.uska apne hindu pati se devorce karawa do

  2. i wana fuck hindu aged women from navi mumbai…
    pl mail [email protected] for a secret and dirty fun lover to explore your wild side…no misuse just sex lover here 35 m n mum

Leave a comment

Your email address will not be published.


*