Sagarika with Owaisi

Bengali intellectual woman Sagarika Ghose looks too happy with Owaisi. Seems thrilled.

Related Post

Share on TumblrTweet about this on TwitterShare on RedditShare on VKShare on Google+Pin on PinterestEmail this to someone

8 Comments

    • कुंवारी नेहा की चुदाई , मेरा नाम अयाज़ खान हैं मे एक मुस्लिम फैमिली से हूँ , मेरी ऐज ३० साल हैं। अब आप लोगो को बोर न करते हुए मे स्टोरी पर आता हूँ , हमारा घर एक ब्राह्मण इलाके मे हैं वहा हमको छोड़कर सभी ब्रहिमीन फैमिलीज़ रहती हैं। मेरे पापा के अच्छे सवभाव के कारन हमारी सब फैमिलीज़ से अछि बनती हे और हमारा सब फैमिलीज़ के घर आना जाना रहता हे , हमारे घर के बिलकुल बगल मे ४ लोगो की एक फैमिली रहती हे जिसमे मोहन मिश्रा (६५ साल के एक अंकल ), उनकी वाइफ शिखा मिश्रा (55 ), उनका बेटा और मेरा बचपन का जिगरी दोस्त शिवम मिश्रा (३३) , उनकी बेटी शिवानी मिश्रा(27 )।
      शिवम और मे बचपन के दोस्त थे, साथ -साथ बड़े हुए व् पढ़ाई की , शिवम पढ़ने मे अछा था इसलिए उसको अच्छे कॉलेज मे एडमिशन मिल गया और ग्रेजुएशन के बाद विदेश मे एक अछि जॉब , पांच साल विदेश मे जॉब करने के बाद वो वापस आ गया और एक छोटी सी कंपनी खोल ली, सुरु मे कपनी छोटी थी तो उसको कोई एम्प्लोयी नहीं मिला इसलिए उसने मुझको ३०% का पार्टनर रख लिया। एक साल के बाद हमरी कंपनी ठीक ठाक चल निकली तो हमने एक्सपैंड करने की सोची और लोकल लोगो को जॉब देना स्टार्ट कर दिया तो बहुत सारे हिन्दू लड़को को शिवम ने जॉब पर रखा लिया । हमको कस्टमर सपोर्ट के लिए एक इंग्लिश बोलने वाली लड़की की जरुरत थी तो शिवम ने अपनी कजिन(मौसी की लड़की ) नेहा पाण्डेय (21 साल ) को जॉब पर रख लिया नेहा ने अभी कुछ दिन पहले ही एक लोकल कॉलेज से बीकॉम कम्पलीट किया था और उसकी इंग्लिश बहुत ही अछि थी । मे नेहा को बचपन से ही थोड़ा बहुत जानता था क्योंकि वो कभी न कभी शिवम के घर आती रहती थी। १५ साल की उम्र से ही उसके छोटे -२ चुचे आने स्टार्ट हो गए थे और मे तभी से उसको सोचके मुठ मारा करता था (तब मेरी उम्र २४ साल थी )। हमारा ऑफिस एक छोटे से रूम मे हे और थोड़ी ही दूर पर शिवम और मेने अपने लिए एक रूम ले रखा हे जिसमे हम कभी कभी ओवरटाइम वाले दिनों मे रुख जाते थे। ऑफिस मे नेहा ने अपनी चेयर और टेबल मेरे बगल मे लगा ली थी क्यूंकि वो ऑफिस मे अपने भाई के बाद सबसे ज्यादा मुझको जानती थी , उसका भाई उसको मजाक -२ मे मार देता था इसलिए उसने अपनी टेबल उससे दूर रखी। अब हमारी टेबल ऑफिस के कोने मे थी , मे उससे खाफी बाते करने लगा था और वो मेरे से पहले से भी ज्यादा ओपन हो गयी थी मे उसको खाली टाइम मे इधर -उधर घुमा भी दिया करता था , फ्री खाफी पिला दिया करता था और जब तो वो ऑफिस मे रहती तब तक उसके सात हसी मजाक किया करता था और रात को अपना काम फिनिश किया करता था , मेरे इतना बाते करने से हम बहुत ही करीब आते चले गए , मैं नेहा को बातो मे इतना बीजी रखता था की उसको बॉयफ्रेंड से भी बात करने का टाइम नहीं मिलता था जिससे उसका ब्रेकअप हो गया और वो बहुत रोई , बुरे टाइम मे मेने उसका बहुत सात दिया और उसका मन हल्का करने के लिए उसको ऑफिस से बंक मरवाकर एक दो बार मूवी दिखाने ले गया। अब जब भी उसका भाई ऑफिस नहीं आता था हम खूब इधर -उधर घूमते थे, मेने उसको अपना रूम भी दिखाया और खाफी टाइम उसके सात स्पेंट किया , जब -२ उसका भाई ऑफिस नहीं आता था हम दोनों भी बंक मारके मूवी देखने निकल जाये करते थेय , जिसको देख कर बाकि हिन्दू लड़को की बहुत गांड जलती थी की उनकी ऐज की माल हिन्दू लड़की अपने से 9 साल बड़े मुस्लिम अंकल के सात घूमती हे।अब आप लोगो को ज्यादा बोर न करते हुए मे नेहा की चुदाई के बारे मे बताता हूँ , शिवम को किसी काम की वजह से १५ दिन के लिए सिटी से बहार जाना पड़ा इसलिए वो ऑफिस की पूरी जिमेदारी मुज पर छोड़कर निकल गया। उसके जाते ही मेने नेहा को अपने घर न रुककर उसकी मौसी के यहाँ रुकने के लिए राजी कर लिया(उसका घर ऑफिस से खाफी दूर हे)। अब पहले ही दिन मे नेहा को उसकी मौसी के घर से बाइक पर लेके ऑफिस के लिए निकल पड़ा और रास्ते मे एक मेडिकल स्टोर से नेहा की नज़रे बचाके कंडोम और आईपिल के कुछ पैकेट खरीद लिया , क्यूंकि आज मे उसको चोदने का पक्का मन बना चूका था , मेने उसको रस्ते मे चाय -काफी पिलाई और ऑफिस न लेजाकर सीधा अपने रूम ले आया वो पहले भी ऑफिस टाइम मे वहां आ चुकी थी इसलिए उसको कुछ भी ओड नहीं लगा। मेने रूम का दरवाजा अंडर से लोक कर दिया , फिर वो और मे बैठके
      to read full story follow this link – https://www.facebook.com/virginDefloration/posts/1482782182028145
      to get pics of neha pandey – inbox me

  1. nice selfie

    • कुंवारी नेहा की चुदाई , मेरा नाम अयाज़ खान हैं मे एक मुस्लिम फैमिली से हूँ , मेरी ऐज ३० साल हैं। अब आप लोगो को बोर न करते हुए मे स्टोरी पर आता हूँ , हमारा घर एक ब्राह्मण इलाके मे हैं वहा हमको छोड़कर सभी ब्रहिमीन फैमिलीज़ रहती हैं। मेरे पापा के अच्छे सवभाव के कारन हमारी सब फैमिलीज़ से अछि बनती हे और हमारा सब फैमिलीज़ के घर आना जाना रहता हे , हमारे घर के बिलकुल बगल मे ४ लोगो की एक फैमिली रहती हे जिसमे मोहन मिश्रा (६५ साल के एक अंकल ), उनकी वाइफ शिखा मिश्रा (55 ), उनका बेटा और मेरा बचपन का जिगरी दोस्त शिवम मिश्रा (३३) , उनकी बेटी शिवानी मिश्रा(27 )।
      शिवम और मे बचपन के दोस्त थे, साथ -साथ बड़े हुए व् पढ़ाई की , शिवम पढ़ने मे अछा था इसलिए उसको अच्छे कॉलेज मे एडमिशन मिल गया और ग्रेजुएशन के बाद विदेश मे एक अछि जॉब , पांच साल विदेश मे जॉब करने के बाद वो वापस आ गया और एक छोटी सी कंपनी खोल ली, सुरु मे कपनी छोटी थी तो उसको कोई एम्प्लोयी नहीं मिला इसलिए उसने मुझको ३०% का पार्टनर रख लिया। एक साल के बाद हमरी कंपनी ठीक ठाक चल निकली तो हमने एक्सपैंड करने की सोची और लोकल लोगो को जॉब देना स्टार्ट कर दिया तो बहुत सारे हिन्दू लड़को को शिवम ने जॉब पर रखा लिया । हमको कस्टमर सपोर्ट के लिए एक इंग्लिश बोलने वाली लड़की की जरुरत थी तो शिवम ने अपनी कजिन(मौसी की लड़की ) नेहा पाण्डेय (21 साल ) को जॉब पर रख लिया नेहा ने अभी कुछ दिन पहले ही एक लोकल कॉलेज से बीकॉम कम्पलीट किया था और उसकी इंग्लिश बहुत ही अछि थी । मे नेहा को बचपन से ही थोड़ा बहुत जानता था क्योंकि वो कभी न कभी शिवम के घर आती रहती थी। १५ साल की उम्र से ही उसके छोटे -२ चुचे आने स्टार्ट हो गए थे और मे तभी से उसको सोचके मुठ मारा करता था (तब मेरी उम्र २४ साल थी )। हमारा ऑफिस एक छोटे से रूम मे हे और थोड़ी ही दूर पर शिवम और मेने अपने लिए एक रूम ले रखा हे जिसमे हम कभी कभी ओवरटाइम वाले दिनों मे रुख जाते थे। ऑफिस मे नेहा ने अपनी चेयर और टेबल मेरे बगल मे लगा ली थी क्यूंकि वो ऑफिस मे अपने भाई के बाद सबसे ज्यादा मुझको जानती थी , उसका भाई उसको मजाक -२ मे मार देता था इसलिए उसने अपनी टेबल उससे दूर रखी। अब हमारी टेबल ऑफिस के कोने मे थी , मे उससे खाफी बाते करने लगा था और वो मेरे से पहले से भी ज्यादा ओपन हो गयी थी मे उसको खाली टाइम मे इधर -उधर घुमा भी दिया करता था , फ्री खाफी पिला दिया करता था और जब तो वो ऑफिस मे रहती तब तक उसके सात हसी मजाक किया करता था और रात को अपना काम फिनिश किया करता था , मेरे इतना बाते करने से हम बहुत ही करीब आते चले गए , मैं नेहा को बातो मे इतना बीजी रखता था की उसको बॉयफ्रेंड से भी बात करने का टाइम नहीं मिलता था जिससे उसका ब्रेकअप हो गया और वो बहुत रोई , बुरे टाइम मे मेने उसका बहुत सात दिया और उसका मन हल्का करने के लिए उसको ऑफिस से बंक मरवाकर एक दो बार मूवी दिखाने ले गया। अब जब भी उसका भाई ऑफिस नहीं आता था हम खूब इधर -उधर घूमते थे, मेने उसको अपना रूम भी दिखाया और खाफी टाइम उसके सात स्पेंट किया , जब -२ उसका भाई ऑफिस नहीं आता था हम दोनों भी बंक मारके मूवी देखने निकल जाये करते थेय , जिसको देख कर बाकि हिन्दू लड़को की बहुत गांड जलती थी की उनकी ऐज की माल हिन्दू लड़की अपने से 9 साल बड़े मुस्लिम अंकल के सात घूमती हे।अब आप लोगो को ज्यादा बोर न करते हुए मे नेहा की चुदाई के बारे मे बताता हूँ , शिवम को किसी काम की वजह से १५ दिन के लिए सिटी से बहार जाना पड़ा इसलिए वो ऑफिस की पूरी जिमेदारी मुज पर छोड़कर निकल गया। उसके जाते ही मेने नेहा को अपने घर न रुककर उसकी मौसी के यहाँ रुकने के लिए राजी कर लिया(उसका घर ऑफिस से खाफी दूर हे)। अब पहले ही दिन मे नेहा को उसकी मौसी के घर से बाइक पर लेके ऑफिस के लिए निकल पड़ा और रास्ते मे एक मेडिकल स्टोर से नेहा की नज़रे बचाके कंडोम और आईपिल के कुछ पैकेट खरीद लिया , क्यूंकि आज मे उसको चोदने का पक्का मन बना चूका था , मेने उसको रस्ते मे चाय -काफी पिलाई और ऑफिस न लेजाकर सीधा अपने रूम ले आया वो पहले भी ऑफिस टाइम मे वहां आ चुकी थी इसलिए उसको कुछ भी ओड नहीं लगा। मेने रूम का दरवाजा अंडर से लोक कर दिया , फिर वो और मे बैठके
      to read full story follow this link – https://www.facebook.com/virginDefloration/posts/1482782182028145
      to get pics of neha pandey – inbox me

  2. kusuma email I’d do

    • कुंवारी नेहा की चुदाई , मेरा नाम अयाज़ खान हैं मे एक मुस्लिम फैमिली से हूँ , मेरी ऐज ३० साल हैं। अब आप लोगो को बोर न करते हुए मे स्टोरी पर आता हूँ , हमारा घर एक ब्राह्मण इलाके मे हैं वहा हमको छोड़कर सभी ब्रहिमीन फैमिलीज़ रहती हैं। मेरे पापा के अच्छे सवभाव के कारन हमारी सब फैमिलीज़ से अछि बनती हे और हमारा सब फैमिलीज़ के घर आना जाना रहता हे , हमारे घर के बिलकुल बगल मे ४ लोगो की एक फैमिली रहती हे जिसमे मोहन मिश्रा (६५ साल के एक अंकल ), उनकी वाइफ शिखा मिश्रा (55 ), उनका बेटा और मेरा बचपन का जिगरी दोस्त शिवम मिश्रा (३३) , उनकी बेटी शिवानी मिश्रा(27 )।
      शिवम और मे बचपन के दोस्त थे, साथ -साथ बड़े हुए व् पढ़ाई की , शिवम पढ़ने मे अछा था इसलिए उसको अच्छे कॉलेज मे एडमिशन मिल गया और ग्रेजुएशन के बाद विदेश मे एक अछि जॉब , पांच साल विदेश मे जॉब करने के बाद वो वापस आ गया और एक छोटी सी कंपनी खोल ली, सुरु मे कपनी छोटी थी तो उसको कोई एम्प्लोयी नहीं मिला इसलिए उसने मुझको ३०% का पार्टनर रख लिया। एक साल के बाद हमरी कंपनी ठीक ठाक चल निकली तो हमने एक्सपैंड करने की सोची और लोकल लोगो को जॉब देना स्टार्ट कर दिया तो बहुत सारे हिन्दू लड़को को शिवम ने जॉब पर रखा लिया । हमको कस्टमर सपोर्ट के लिए एक इंग्लिश बोलने वाली लड़की की जरुरत थी तो शिवम ने अपनी कजिन(मौसी की लड़की ) नेहा पाण्डेय (21 साल ) को जॉब पर रख लिया नेहा ने अभी कुछ दिन पहले ही एक लोकल कॉलेज से बीकॉम कम्पलीट किया था और उसकी इंग्लिश बहुत ही अछि थी । मे नेहा को बचपन से ही थोड़ा बहुत जानता था क्योंकि वो कभी न कभी शिवम के घर आती रहती थी। १५ साल की उम्र से ही उसके छोटे -२ चुचे आने स्टार्ट हो गए थे और मे तभी से उसको सोचके मुठ मारा करता था (तब मेरी उम्र २४ साल थी )। हमारा ऑफिस एक छोटे से रूम मे हे और थोड़ी ही दूर पर शिवम और मेने अपने लिए एक रूम ले रखा हे जिसमे हम कभी कभी ओवरटाइम वाले दिनों मे रुख जाते थे। ऑफिस मे नेहा ने अपनी चेयर और टेबल मेरे बगल मे लगा ली थी क्यूंकि वो ऑफिस मे अपने भाई के बाद सबसे ज्यादा मुझको जानती थी , उसका भाई उसको मजाक -२ मे मार देता था इसलिए उसने अपनी टेबल उससे दूर रखी। अब हमारी टेबल ऑफिस के कोने मे थी , मे उससे खाफी बाते करने लगा था और वो मेरे से पहले से भी ज्यादा ओपन हो गयी थी मे उसको खाली टाइम मे इधर -उधर घुमा भी दिया करता था , फ्री खाफी पिला दिया करता था और जब तो वो ऑफिस मे रहती तब तक उसके सात हसी मजाक किया करता था और रात को अपना काम फिनिश किया करता था , मेरे इतना बाते करने से हम बहुत ही करीब आते चले गए , मैं नेहा को बातो मे इतना बीजी रखता था की उसको बॉयफ्रेंड से भी बात करने का टाइम नहीं मिलता था जिससे उसका ब्रेकअप हो गया और वो बहुत रोई , बुरे टाइम मे मेने उसका बहुत सात दिया और उसका मन हल्का करने के लिए उसको ऑफिस से बंक मरवाकर एक दो बार मूवी दिखाने ले गया। अब जब भी उसका भाई ऑफिस नहीं आता था हम खूब इधर -उधर घूमते थे, मेने उसको अपना रूम भी दिखाया और खाफी टाइम उसके सात स्पेंट किया , जब -२ उसका भाई ऑफिस नहीं आता था हम दोनों भी बंक मारके मूवी देखने निकल जाये करते थेय , जिसको देख कर बाकि हिन्दू लड़को की बहुत गांड जलती थी की उनकी ऐज की माल हिन्दू लड़की अपने से 9 साल बड़े मुस्लिम अंकल के सात घूमती हे।अब आप लोगो को ज्यादा बोर न करते हुए मे नेहा की चुदाई के बारे मे बताता हूँ , शिवम को किसी काम की वजह से १५ दिन के लिए सिटी से बहार जाना पड़ा इसलिए वो ऑफिस की पूरी जिमेदारी मुज पर छोड़कर निकल गया। उसके जाते ही मेने नेहा को अपने घर न रुककर उसकी मौसी के यहाँ रुकने के लिए राजी कर लिया(उसका घर ऑफिस से खाफी दूर हे)। अब पहले ही दिन मे नेहा को उसकी मौसी के घर से बाइक पर लेके ऑफिस के लिए निकल पड़ा और रास्ते मे एक मेडिकल स्टोर से नेहा की नज़रे बचाके कंडोम और आईपिल के कुछ पैकेट खरीद लिया , क्यूंकि आज मे उसको चोदने का पक्का मन बना चूका था , मेने उसको रस्ते मे चाय -काफी पिलाई और ऑफिस न लेजाकर सीधा अपने रूम ले आया वो पहले भी ऑफिस टाइम मे वहां आ चुकी थी इसलिए उसको कुछ भी ओड नहीं लगा। मेने रूम का दरवाजा अंडर से लोक कर दिया , फिर वो और मे बैठके
      to read full story follow this link – https://www.facebook.com/virginDefloration/posts/1482782182028145
      to get pics of neha pandey – inbox me

Leave a comment

Your email address will not be published.


*