Stories

मैं मेरी मा और करीम पार्ट 6

दोस्तो में माफी चाहता है कि मैने पिछले पार्ट में कहा था कि में मधु को अगले अपडेट में चुदवा दूंगा लेकिन में मधु को पूरी तरह खोल नहीं पाया था और जल्दी में मधु को करीम के से चुदवा देता तो वो मज़ा नहीं आता,बस 3 दिन करीम मधु देवी को बुरी तरह चोदने वाला है,उम्मीद है ये पार्ट पसंद आएगा और अपना reply jarur de

तो चलो शुरू करते है

मा करीम का भयानक मुसलमानी लंड देखकर बहुत उत्तेजित हो गई थी,मा ने सोच लिया था कि वो अपनी चूत में उसका खुटे जैसा लंड ले कर ही रहेगी और दूसरा कारण यही भी था कि जहां दुनिया हिन्दू मुसलमान का विरोध करती है वहीं वो दुनिया की नज़रों से बचके मुसलमान से चुदना चाह रही थी
मा फिर काम पर लग गई , जानता था शाम को सुधिया जरूर आएगी मा से पूछने कि क्या हुआ दिन में ,और हुआ भी वैसा ही ,सुधिया ने कुटिया के आस पास नजर फैराई की कही में तो नहीं खड़ा क्योंकि पिछली बार काकी पता ही नहीं था कि में उसकी बातें सुन रहा हूं,इधर उधर देखने के बाद जब सुधिया संथुस्ट हुई तब अंदर गई
सुधिया – मेरी रण्डी मधु,कैसा लगा करीम का लन्ड
मा – सुधिया ,उसका लन्ड था या खूंटा ,इतना बड़ा ,वो तो चूत की चटनी बना देगा
सुधिया – मुसलमानों को इतना ही बड़ा होता है ,और मीट खा खा कर इनमें इतनी ताकत आ जाती है कि रंडिया भी इनसे डरती है,जब जब कोई मुसलमान खोठे पे जाता है तो बेचारी रंडिया डर कर चुप जाती है कि कहीं उस मुसलमान की नजर उस पर पड़ जाए,फिर भी बेचारी एक का नंबर तो आता ही है,लेकिन वो रंडिया भी नहीं जानती की वो जब तक वापस आता रहेगा जब तक वो हर लड़की चोद नहीं चुका होगा,मुसलमानों से वो बच नहीं सकती ,एक ना एक दिन तो जरूर चुदेगी,और जब वो चुदती है तो पूरा खोठा उसकी चिखो से गूंज उठत
था
मा – फिर वो मेरी क्या हालत करेगा,में तो सालों पहले चुदी थी
सुधिया – पहेली चुदाई में दर्द होगा,वो रगड़ रगड़ बिना रहम के चोदेगा ,फिर बाद में मज़ा आने लग जाएगा
मा – कितना दर्द होगा,और क्या ये मुसलमान सबको बुरी तरह ही चोदते है
सुधिया – दर्द तो होगा लेकिन बार जब तू पूरी तरह मुसलमानों की रंडी बन जाएगी तब बहुत मज़ा आएगा,और ये मुसलमान मुस्लिम औरतों को इतना बुरी तरह नहीं छोड़ते जितना हिन्दू औरतों को चोदते है ,पता नहीं लेकिन ये क्यों पागल हो जाते है जब इन्हें हिन्दू औरत चोदने को मिलती है शायद ये हिन्दू आदमियों द्वारा किए गए अत्याचार का बदला उनकी लुगाइयों को चोद कर लेते है,जैसे यह गाव में बहुत सारे आदमी है जो करीम से नफ़रत करते है क्योंकि वो मुसलमान है लेकिन उन में से पता नहीं कितने की लुगाइयों को करीम बुरी तरह रगड़ रगड़ के चोद चुका है और अपनी रंडी बना चुका है
मा – मुसलमानों की रंडी बनने से क्या मतलब है तेरा
सुधिया- रंडी बनने से ये मतलब है पूरी तरह उसकी गुलाम बन जाना,वो कहे तो उठना वो कहे तो सोना,लंड चूसने को बोले तो बिना नखरे करे लंड चूसना और भी बहुत कुछ ,बस वो जो कहे वो करो ,बदले में वो तुम्हे चुदाई का भरपूर आनंद देगा अगर उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी शामत आ गई समझो
मा – लंड चूसना तो बहुत गंदी चीज है,इसमें क्या मज़ा आता है
सुधिया- वो उनको मज़ा आता है,लंड चूसना तो बहुत ही आम बात है ये तो अपना वीर्य भी मुंह डालकर पीने को कहते है
मा – छी छी,ये इतना बेकार काम में नहीं करूगी
सुधिया – तूने मेरे सामने माना कर दिया है लेकिन किसी मुसलमान सामने मना मत करना,या तो तू मुसलमान से चुदवा ही मत,अगर चुदवाना ही है तो फिर एक रंडी की तरह चुदवा जो सब कुछ करे बिना नखरे करे
मा – लेकिन ये बहुत गन्दा काम करते है,भला कौन लंड चूसता है और वीर्य पिता है
सुधिया- अब अलसी चुदाई का मज़ा लेना हो तो ये तो करना ही पड़ेगा नहीं तो मत चुदवा
मा – चुदवाना तो पड़ेगा ,इतना बड़ा लंड पहली बार देखा,किसी मोटे खुटे जैसा लग रहा था,उसका लन्ड तो सीधा पेट तक जाएगा,अब उसके लिए कोशिश करुगी की उसका वीर्य पी सकु
सुधिया- कोशिश नहीं करनी पीना ही पड़ेगा ,मुसलमान या तो अपना वीर्य चूत में डालते है फिर मुंह में ,चूत में डाला तो तू पहले दिन ही गर्भवती हो जाएगी और ये ना तू चाहती है ना वो चाहेगा क्यों की उससे तो तेरा ये गदराया शरीर बहुत अच्छे से निचोड़ना है
मा – ठीक है,नाक बंद कर के एक बार पी लूंगी,फिर तो में पूरी तरह रंडी बन जाउगी ना
सुधिया- नहीं फिर भी तू पूरी तरह रंडी नहीं बनेगी
मा – अब क्या बाकी रह गया,उसका लन्ड चूस लूंगी ,उसका वीर्य भी पी लूंगी ,अब इससे जादा तो और वो क्या करवाएगा
सुधिया – में कह रही हूं ना मुसलमानों की रंडी बनना आसान काम नहीं है ,मुसलमानों की पूरी तरह रंडी बनने से ये मतलब है कि लंड चूसना और वीर्य तो पीना ही पड़ेगा ,लेकिन वो हिन्दू औरतों को जलील करते हुए चोदते है तो इसमें भी मज़ा आना चाहिए कि जब वो चुदाई के वक्त तुझे जलील कर रहा हो तो तुझे मज़ा आए और हो सकता है ये तुझसे अपनी गांड़ भी चटवाए
मा – छी ये तो बहुत गन्दा काम है , भला कौन अपनी गांड़ चटवाता है
सुधिया – मुसलमान हिन्दू औरतों से अपनी गांड़ चटवाते है,इनको हिन्दू औरतों को जलील करे चोदने बहुत मज़ा आता है और गांड चटवाना भी एक तरह से हिन्दू औरतों को जलील करना ही है,अगर मज़े लेना है तो ये कीमत तो देनी पड़ेगी
मा – नहीं ये मुझसे नहीं होगा,में नहीं चाटने वाली किसी की गांड़ ,ये करीम से चुदने के लिए पता नहीं क्या क्या करना पड़ेगा ,इससे अच्छा है कि हरिया से हूं चुदवा लू कम से कम उसका वीर्य और उसकी गान्ड तो नहीं चाटने पड़ेगी
सुधिया – अरे मेरी प्यारी मधु रंडी ,तू तो नाराज़ हो गई लेकिन तेरे पास कोई और विकल्प ही नहीं ,हरिया तो बेचारा तेरा ये गदराया शरीर संभाल ही नहीं सकता ,उसका लन्ड तो करीम के आधे लंड जितना भी नहीं है और उसमे इतना दम कहा की तेरे इस गदराए शरीर को संभाल सके ,में तो ये कहूंगी कि पूरे गाव में कोई हिन्दू मर्द नहीं है जो तेरे इस गदराए शरीर को संभाल सके केवल एक वो मुसलमान ही है जो अच्छे से तेरे गदराए शरीर को संभाल सकता है ,शायद ऊपरवाले ने करीम को इसीलिए भेजा है कोई तेरा इस गदराए शरीर को काम के सके
मा – तुझे भी तो चोदता है ,तू भी तो खुश है ,में भी खुश हो लूंगी
सुधिया – में खुश नहीं हूं हरिया के साथ चुदवाने में ,कहा उसका छोटा सा लंड और वो तो थोड़ी देर में ही झड़ जाता है,में तो खुद करीम से चुदवाने की सोच रही हूं
मा – अच्छा अब में समझी पहले तू मुझे बली का बकरा बनाना चाह रही थी ,फिर तू चुदना चाह रही थी,अब तो में तेरे बाद ही चुदुगी
सुधिया – अच्छा बाबा,पहले में चुद लूंगी फिर तू चुद लेना ,अब तो ठीक है
मा – तो क्या तू करीम का वीर्य पिएगी और उसकी गान्ड भी चाटेगी
सुधिया – मज़े लेना है तो पूरी तरह रंडी बन कर लो ,क्यों की रंडी कभी भी किसी चीज लिए मना नहीं करती
मा – चल ठीक है ,अगर तू करीम की गांड़ सकती है और उसका वीर्य पी सकती है तो में भी पी लूंगी और उसकी गान्ड चाट लूंगी
मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि मेरी हिन्दू मा जिसको सुंदरता और गदराए शरीर पर पूरा गाव मरता था आज इस कदर मजबूर हो गई थी करीम का मुसलमान लंड लेने के लिए सब कुछ करने को तैयार थी जिसने शायद अपने पति का लन्ड भी मुंह में नहीं लिया था उसका लन्ड मुंह में लेके उसका वीर्य पीने को तैयार थी और ऊपर से उसकी गान्ड चाटने को भी तैयार थी,अब जाकर मुझे समझ में आया था कि क्यों हिन्दू औरतें मुसलमान की रंडी बनने को तैयार हो जाती है इन सब के पीछे केवल उनका भयानक मुसलामनी लंड और उनकी चोदने की ताकत होती है
सुधिया – ये हुई ना बात मेरी रण्डी,अब तू मुसलमान की रंडी बनने को तैयार हो
मा – जब से उसका लन्ड देखा तब से चुदवाने की बड़ी इच्छा हो रही ,तो कब चुदवाना है उस मुसलमान वेद से,और कैसे उससे मनाएंगे चुदवाने कें लिए
सुधिया – वो मुसलमान है वो हमेशा ही तैयार ही रहता है हिन्दू औरतों को चोदने के लिए ,लेकिन रामू का कुछ करना पड़ेगा
मा – मे उसे कुछ दिनों के लिए मामा के यहां भेज दूंगी ,फिर हम लोग खुल कर चुदवा सकेगे करीम से
सुधिया – ये बहुत अच्छी सोच है,उससे मामा के यहां भेज कर करीम सें चुदवाने का,बेचारे को पता ही नहीं होगा कि वो मामा के यहां है और उधर गाव में उसकी मा एक मुसलमान से रंडी की तरह चुदवा रही है
मा – अब क्यों इस तरह बोल रही है,अब आगे क्या करना है ये बता
सुधिया – में तो यूं कहती हूं,अभी कुछ देर में रामू आएगा और तो उससे मामा के यहां भेज देना कल सुबह और अभी तू करीम के यहां चलो वाहा जाकर की मेरी कमाकर के निकल हिस्से दर्द हो रहा है ऐसा बोलना करीम को, वो तुझे नंगी भी देगा,फिर कल सुबह रामू के जाते ही करीम को अपनी इस कुटिया पर बुला लेंगे,
मा – कहीं उससे शक ना हो जाए
सुधिया – अब वो तेरे ऊपर है
इधर सुधिया अपने मन में बोलती है,अरे मेरी रण्डी मधु देवी ,रामू कहीं नहीं जा रहा बल्कि वो तो खुद तुझे मुसलमान की रंडी बनते हुए देखना चाहता है,और फिर बाद में तुझे चोदेगा ,और फिर तुझे में अपनी गुलाम बनाऊ गी
मा – में कोशिश करती हूं
सुधिया – और अभी कुछ देर रामू आ रहा है तो उससे घर भेज देना यह कहकर तू मुझसे कुछ काम है और कुछ समय लग जाएगा आने में ,फिर में तुजे करीम के यहां ले चलती हूं वो तेरी मालिश कर देगा

में भी जादा समय गवाना सही नहीं समझा और में कुटिया में आ गया
मा – आ गए बेटे
सुधिया – आ गया रामू
रामू – हा,
मा – बेटा तू बहुत दिनों से मामा के यहां गया नहीं,तू भी जिद्द कर रहा था कि में तुझे मामा के यहां भेजु,तो तू कल सुबह ही निकाल जा
रामू – अरे मा एक दम से कैसे
मा – बस बेटा यू ही बोल रही थी कि अभी खेतो कुछ काम भी नहीं है और तू अभी कुछ करता भी नहीं है तो सोचा की तुझे मामा के यहां भेज दू काफी दिन हो गाएं तुजे मामा से मिले हुए
रामू भी जानता था कि मा ये सब क्यों कर रही है,लेकिन रामू मा की काम की बीच कोई दिक्कत खड़ी नहीं करना चाहता था इसलिए उसने हा कर दी
मा – ठीक है बेटा,कल सुबह तू निकाल जाना,में खाना बना दूंगी
रामू – नहीं मा ,में खाना मामा के यहां खा लूंगा
मा – ठीक है बेटा,अब तू यहीं रुक ,फिर घर चले जाना,मुझे सुधिया की कुछ काम है
रामू – कैसा काम मा
मा – सुधिया को कुछ काम है ,किसी से मिलना है
रामू – ठीक है मा ,तुम सीधा घर आ जाना ,में कुछ देर में निकल जाऊ गा
मा – ठीक है मा
फिर मा और सुधिया निकल गए
में जानता था कि अब मधु देवी करीम से चुदेगी ,लेकिन आज क्या होने वाला था ये में भी नहीं जानता था,यही सोच कर में कुच देर बाद करीम की कुटिया की और निकाल गया,मेरा लन्ड फनफना रहा था कि आज पहली बार करीम और मधु को इस नजर से एक साथ देखूंगा
करीम गाव से काफी दूर एक कुटिया में रहता था जहां शाम को कोई नहीं आता था जो भी लोग आते थे दिन में आते थे और जो कुछ हिन्दू औरतें थी जिनका पति रात को घर पे नहीं होता था तो वो करीम की कुटिया में रात को आती थी और फिर करीम अपने मुसलामनी लंड से उनकी हिन्दू चूत और गांड को रगड़ रगड़ के चोदता था और फिर सुबह तक चोद चोद कर उनकी हालत पतली कर देता था
करीम गाव से दूर इसलिए भी रहता था कि उससे अच्छा लगता था कि हिन्दू औरते चुदाई के दौरान चीखती रहे ,और करीम उनकी चिखे सुन कर और जोर से चोदता था बेचारी जब सुबह जाती थी तो लंगड़ा लंगड़ा कर चलती थी फिर बेचारी पूरा दिन ढंग से काम भी नहीं कर पाती थी
लेकिन ये बात मधु देवी को कहा पता थी कि करीम इतनी बुरी तरह चोदता है,वो तो बस सोचती थी कि करीम का लन्ड ही बड़ा है और उसका मुसलामनी लंड अपनी चूत में ले ही लेगी और थोड़ा बहुत दर्द होगा उससे बर्दास्त कर लेगी

रात का वक्त था इसीलिए में सुधिया और मा से जादा दुर नहीं चल रहा था ,में तो दोनों की गांड़ देख रहा था,सुधिया की गांड़ भी कम नहीं थी लेकिन मा की गांड़ का तो कोई मुकाबला ही नहीं था,सुधिया की गांड़ थोड़ी ढीली थी लेकिन मा की सुडौल थी जो हर कदम पर थिरक रही थी और फिर हवा भी उनकी गांड़ की दिशा से आगे की ओर चल रही थी इस वजह से दोनों के घागरे उनकी गांड़ से चिपक गए थे,मेरी तो कल्पना मात्र से से ही लंड खड़ा हो गया था कि बहुत ही जल्दी एक मुसलमान अपना मुसलामनी लंड डालकर मेरी हिंदू मा को चोद रहा होगा

उधर सुधिया कह रही थी कि तू बस कुछ मत करना ,में जो कहूं या जो करीम कहे वो करते रहना
मा – हा ठीक है,लेकिन मुझे डर लग रहा है कहीं कुछ गडबड हो गई तो ,या फिर करीम एक अच्छा इंसान निकला वो भड़क गया तो
सुधिया – डरने वाली कोई बात नहीं है ,बस में जो कहूं वो करते रहना,और देखना कैसे वो मोखा पाकर अपना लंड तेरी चूत में डाल देगा तुझे पता भी नहीं चलेगा
मा – कहीं उससे आज ही चुदाई कर दी तो
सुधिया – उसको इशारे में समझा देंगे ,चिंता मत करो वो गाव की सबसे गदराई औरत को जल्दीबाज़ी में नहीं चोदेगा,आज तो हम उससे बताने आए है कि मधुदेवी उसका मुसलमनी लंड लेने को तैयार है
फिर कुछ ही देर में दोनों करीम की कुटिया में पहुंच गए,करीम खाट पे लेटा हुआ था ,जैसे ही उसने सुधिया और मधु देवी को देखा तो उससे एक पल तो विश्वास नहीं हुआ फिर हड़बड़ाहट में बोला “”अरे मधु देवी जी आप यहां कैसे””
मा बोल पति इससे पहले ही सुधिया बोल पड़ी “”करीम जी ,आज इनकी कमर के निचले हिस्से में थोड़ा दर्द हो रहा है””
और फिर सुधिया करीम की ओर देख का मुस्कुरा जाती है,करीम भी सुधिया की मुस्कुराहट को समज जाता है कि मधु देवी इस गाव की शान एक मुसलमान से चुदने को तैयार है
सुधिया – आज रामू घर पे मधु का इंतजार कर रहा है इसलिए आज थोड़ी सी मालिश कर देना कल सुबह रामू मामा के यहां कुछ दिनों के लिए जा रहा है तो कल आप पूरी तरह अच्छे से मधु की मालिश कर देना
करीम का सपना सच हो रहा था कि अब वो दिन आ ही गया जब मधु करीम से बुरी तरह चुदने वाली है,लेकिन करीम सुधिया के इशारों को समझ गया था कि आज केवल मधु देवी को गरम ही करना है और कल चुदाई करनी है
करीम – मधु देवी ,आपने कमर के निचले हिस्से में दर्द हो रहा है,
मा – हा
करीम – तो आप इस दरी पे पेट के बल लेट जाओ
मा – मुझे जोरो की पेशाब लगी है
करीम – आ जाओ बाहर ,में तुम्हारे साथ चलता हूं ,कहीं कोई कीड़ा ना काट ले,रात को बहुत सारे कीड़े घूमते है
मा भी जानती थी ये सब वो क्यों कर रहा है,और फिर सुधिया भी इशारों मे कह देती है कि हा कर दे ,तो मा हा कर देती है
फिर करीम मा को कुटिया के पास एक छोटी सी झाड़ी की ओर इशारा करता है,वो झाड़ी इतनी छोटी थी कि कोई औरत कुछ नहीं छिपा सकती उस झाड़ी की आड़ में
लेकिन मा को पेशाब जोरो की लगी थी इसलिए मा उधर जाकर अपनी गांड़ करीम कि और करने नीचे बैठ जाती है
मां जैसे ही घाघरा अपनी गांड़ तक उठती है करीम को मां की सुडौल गांड के दर्शन हो जाते है,करीम मधु देवी की सुडौल गांड देखकर हक्का बक्का जाता है,उसने आज तक कई हिन्दू औरतों को चोदा था लेकिन आजतक किसी की भी ऐसी गांड नहीं थी ,करीम का लन्ड झट से खड़ा होकर झटके खाने लगा जाता है,आज केवल मधु देवी ही थी जिसने मुसलामनी लंड को इतनी जल्दी झटके खाने पे मजबूत किया था लेकिन ये बात तय थी कि मुसलमानी लंड और हिन्दू चूत में जीत मुसलमानी लंड की होने वाली थी और जो हिन्दू चूत थी उसकी हालत ऐसी होगी की उससे किसी और लंड लेने लायक नहीं होगी कुछ दिनों तक
फिर करीम धीरे धीरे झड़ी के पास चला जाता है मधु को पता था कि करीम पास आ रहा है लेकिन वो शर्म से कुछ नहीं बोलती
करीम इतनी पास आ जाता है कि अब उससे मधु देवी की सुडौल गांड की दर्शन बहुत अच्छी से हो रहे थे,मा शर्म के मारे पेशाब नहीं कर रही थी लेकिन मधु देवी को बहुत जोर से पेशाब लगी थी इसलिए जादा रोक नहीं पाई और पेशाब की एक धार निकली चूत से,
करीम मधु देवी की चूत तो नहीं देख पा रहा था लेकिन उससे चूत से निकली हुई पेशाब की धार दिख रही थी,करीम मधु देवी के पेशाब की धार को देख कर उत्तेजित हो जाता है क्योंकि मधु देवी के चूत से निकली हुई धार मोटी थी और करीम जानता था कि मोटी धर वाली की चूत बहुत फुली हुई होती है
फिर करीम भी अपना लन्ड निकाल कर झाड़ी के दूसरी ओर खड़ा होकर मूतने लग जाता है,करीम का लन्ड फेले से ही खड़ा था तो उसकी पेशाब की धार बहुत दूर तक जा रही थी
मधु भी करीम का मुसलमानी लंड देख कर शरमा गई थी लेकिन मधु देवी तिरछी नजर से बार बार देख रही थी ,करीम अपने 13 इंच के मुसलमानी लंड को हाथ फेरते हुए मुत रहा था
कुछ देर बाद दोनों ने पेशाब करने बाद करीम बोला ” मधु जी पेशाब कर लिया””
मा – हा कर लिया
फिर दोनों वापस कुटिया में आ जाते है
करीम – मधु देवी जी पेट के बल लेट जाओ

मा वहीं जमीन पे पड़ी दरी पे पेट के बल लेट जाती है
मा लेटने के बाद जो मा की सुडौल गांड का आकार करीम देख कर पागल हो जाता है और मनन में बोलता है “”खुदा कसम इस सुडौल गांड को मार मार के लाल नहीं कर दू तो में एक मुसलमान नहीं””
फिर करीम तेल की शीशी लेकर कुछ बूंदे मा की कमर पे डालता है,और मा की कमर मसलने लगता है
मधु देवी भी सालो बाद एक पराए मर्द के चुने से शरीर एक सरसराहट भेल गई ,मा की चूत पानी छोड़ने लगा गई थी
इधर करीम ने भी कभी इतनी गडराई औरत को नहीं छुहा था
करीम अब धीरे धीरे जोर जोर से मां की कमर मसलने लगता है और साथ में भी अपना हाथ मा की गांड़ की खाई कि तरफ भी चलाने लग जाता है
मा तो करीम की हाथो की मालिश से मस्त हो गई थी,मा को कुछ पता नहीं चल रहा था कि क्या हो रहा है
अब करीम की उंगलियां मा की गांड़ की खाई में उतर लग गई थी
करीम – मधु जी ,अपना घाघरा थोड़ा ढीला कर दो जिससे में इससे नीचे कर सकू और आपके घागरे पे तेल ना लगी ,मा ने अपने साइड में बढ़े हुए नादे को ढीला कर दिया,करीम ने धीरे धीरे से मा का घाघरा नीचे उतारना शुरू किया
जैसे जैसे मा का घाघरा उतार रहा रहा था वैसे वैसे करीम अपनी उंगलियां खाई में उतारते जा रहा था,अभी तक मा का आधा घाघरा ही उतरा था कि मेरा पानी निकल गया,में खुद से बोला क्या यार ये लंड तो बार बार पानी छोड़ देता है ,सीख कुछ करीम के मुसलमानी लंड से घटो तक खड़ा रहता है””
करीम मा की सुडौल गांड सहला रहा था,करीम मा की सुडौल पर बहुत ही मुलायम गांड को बड़े आनंद से बड़ा रहा था
करीम – मधु जी जैसा लग रहा है
मा – अच्छा लग रहा है करीम जी
करीम – दर्द में कुछ आराम मिला
मा – हा थोड़ा बहुत मिला है
करीम – तुम कहो तो सारा दर्द आज ही ख़तम कर दु
इसी बीच सुधिया बोल पड़ी ,नहीं नहीं करीम जी आज नहीं ,कल अच्छी तरह मालिश कर लेना पर आज घर जाना है और कल रामू भी चला जाएगा,फिर अच्छे से रगड़ रगड़ के मालिश करना
करीम – हा ,थोड़ी बहुत तो करू मालिश
कहकर करीम ने अपनी उंगलियां गांड की खाई में गहराई तक उतारने लगा तो बहुत ही जल्द करीम की उंगलियां मा के कुवारी गांड के छेद पर पहुंच गई

मा का घाघरा आधी गांड तक अटक गया था क्योंकि नादा इतना ढीला नहीं था कि वो मा की भारी भरकम गांड से नीचे उतर सके इसीलिए करीम जादा कुछ नहीं कर पाया लेकिन फिर भी वो मा की गांड़ के छेद की अच्छी तरह पहचान कर रहा था और दूसरे हाथ से मा की सुडौल गांड सहला रहा था और हल्के हल्के दबा रहा था,करीम मा की सुडौल गांड को पाकर मस्त हो गया था
करीम मन्न में बोला “”क्या तंग छेद है ,इसी हिन्दू घोड़ी की कुंवारी गांड फाड़ कर तो मज़ा ही आ जाएगा””
करीम – यहां भी दर्द हो रहा है क्या
मा बहुत जड़ा गर्म हो चुकी थी ,मा को बिल्कुल नहीं सूझ रहा था कि क्या जवाब दे ,और फिर मा ने हा कर दी
करीम – अच्छे से तुम्हारा दर्द निकालुगा ,आज आज आराम कर को,कल थोड़ा दर्द हो सकता है लेकिन फिर मज़े ही मज़े ,तुम्हारी सारी नशे खोल दूंगा
फिर करीम ने मा को मालिश करना चोद दिया
करीम – मधु कल अच्छे से मालिश करुगा,तैयार रहना
मा करीम की बातो से शर्मा गई ,और मुंह से कुछ नहीं बोल पाई बस हा में सिर हिला दिया
मा जैसे उठी ,नीचे दरी गीली हो गई थी ये सब मां की चूत से निकले हुए पानी की वजह से था,आज मा की हिन्दू मुसलमान लंड की कल्पना करते हुए इतना पानी छोड़ा था जितना शायद जिंदगी भर नहीं छोड़ा था
फिर सुधिया और मा निकाल गए
उधर करीम नीचे झुक कर दरी पे मा के चूत से निकले हुए पानी को सुंगने लगा, एक लम्बी आह भरी और बोला “”क्या मस्त सुगंध है मधु तेरी चूत के पानी की,मज़ा आ गया,कल तेरे शरीर का हर रस में पी जाउगा मधु देवी
है खुदा तेरा सुक्रगुजार हूं कि तुझे इतनी मस्त हिन्दू औरत को कई सालो तक इतने मर्दों से बचाए रखा और मुझे उसका गदराया शरीर भोगने को दिया””
मधु देवी तू तो गई ,कल से तू मेरी रण्डी बनेगी
हा हा हा

बस जल्दी ही अग्ला अपडेट दूंगा

अपना suggestion or chat karne ke liye
[email protected]

65 thoughts on “मैं मेरी मा और करीम पार्ट 6

  1. Agli post me madhu karim se nikah kare aur islam dharam qubool kare. Vo uske saath roj non veg aur beef khaye. Vo burkha pehnke ghume . Unke bahut se muslim bache ho. Vo hindu devi devatao ko gaali de aur allah ko maane.

    1. Meri shadi ko ek sal ho gaya shadi ke dus din bad hi jeth se chud gayi tab se jeth 7inch lambe 2 inch mote lund se mujhe pel raha he ghar me sirf teen log he me mere jeth ghar ke malik shadi nahi ki mere pati agyakari bhai he jeth ka paltu kutta aur me
      Mere sas sasur sade 6 sal pahle 2012 me kedarnath me mar gaye the ghar me jeth ka hukum chalta he mere jeth mere pati ko kam ke silsile me sahar se bahar bhej dete he mere pati mahine me 20 din se jyada sahar se bahar rahte he me jethji ki rakhel nazayaz biwi hu

    1. Philhal to jeth ji he unko dhoka nahi de sakti vese to meei chut me 4 lund dubki laga chuke he ek pati ek jethji aur do jethji ke dost
      Mere jeth ji unke dono dosto ki biwiyo ko bhi chodte he

    1. Meri age 29+ he apki age kitni he mere jeth mujhe wild sex dete he me bhi ab ek bar muslim se jarur chudungi jo hanare pados me he uski age 25 kevaas paas he

  2. Nahi rahne do me mere padosi ko pataungi per jeth ji ko pata naa chal Jaye isliye dar lagta he nahi to abb to padosi ke niche hoti

    1. Prashant ji meri bhi sex karne ki icha he naya experience mujhe bhi chahiye per samaj ke dar se apse nahi kar sakti mujhe maf karna

  3. Mujhe bhi ek muslman chodta hai uski age 48 sal me 42 ki hu taxi driver hai akela rehta hai week me 2 bar hum chodte hai pichle 2 sal se chudva rhi hu

    1. Didi kya app apke pati se khush nahi ho
      Didi kya apke pariwar me kisi ko apke affair ke bare me pata he
      Vese didi jo maza gair mard ke sath ata he vo pati ke sath nahi
      Didi yadi meri ksi bhi bat se apko bura lage to apni choti behan samazkar maf kar dena

        1. Didi vese to update ajj ane ki ummid lag rahi he me toh jethji se maza lelungi per didi app apne bare me batao apka koi pati ke alawa aur koi he ya nahi

  4. agla part post kar diya hai jaldi hi piblish ho jayega,umeed hai ye part bhi pasand aayega ,or apna kimti reply jarur de

    desilauda4u

  5. Bhaiya ab. To update dedo chut phat gayi meri to ab kya. Jethji se gand marwaungi tab update doge kyo meri chut ka khyal rajho

      1. Didi mere pati me dum nahi ek minit bhi nahi karta maderchod vo to jethji ki rakhel hu isliye chut pyasi nahi rahti
        Vese meri bhi icha he ek bar muslim se chudwane ki per jeth ka adesh mere aur mere dono dosto ke alawa kisi se nahi
        Me majbur hu par app kismat wali ho jo muslim ke sath shadi karogi meri dua apke sath he

  6. Didi me islam qabul nahi karungi lakin kisi mulle ki rakhel jarur banungi ekdin jis din mera jeth mera paltu kutta ban jayega tab abhi ghar ka malik mera jeth he jis din vo ghar mere naam kar dega usdin me jeth ko paltu banaungi aur uske samne hi mulle ki rakhel banungi aur uske samne chudwaungi aur mulle se maderchod jeth ki gaand marwaungi

  7. i again sented my story ,i hope this times they will publish,also their should be a admin and some moderator who can also piblish story submitted by user

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *