CaptionsPics

आकांक्षा पुरी की चुदास

आकांक्षा पुरी को लोग शायद उसके धार्मिक धारावाहिक में पार्वती के पात्र से अधिक जानते होंगे। लेकिन अगर आप समझते हैं कि आकांक्षा के मनमोहक अंदाज़ की यात्रा यही तक सिमित है तो आप गलत हैं। आकांक्षा को धारावाहिक में पार्वती का पात्र मिलने से पहले वह इंडस्ट्री के कई क्षेत्रों में अपना और अपने उस गठीले शरीर का योगदान दे चुकी है। और यह कहना भी गलत नहीं होगा कि उसकी उपस्थिति से अधिक योगदान उसे अंगप्रदर्शन का रहा है। उदाहरण के रूप में आप ये कुछ तसवीरें देख सकते हैं, जो आकांक्षा के विषय में आपका नजरिया स्पष्ट कर देंगी।

यह एक गाने का दृश्य है जिसमें आकांक्षा बिकिनी की आड़ में अपने बड़े स्तन और दूधिया गठीले शरीर का प्रदर्शन करना चाहती है। इससे यह तो स्पष्ट है कि आकांक्षा की अपने भविष्य को लेकर क्या आकांक्षाये (उम्मीदें) हैं। और जहाँ तक प्रश्न है उसके बड़े स्तनों का तो नीचे दी गयीं तस्वीरों से आपकी ये दुविधा भी दूर हो जायेगी।

यहाँ पर यह भी बात बता दूँ कि आकांक्षा के इन क्षेत्रों में अभिनय के पहले वह किंगफिशर की मॉडल रह चुकी है। और किंगफिशर की मॉडलों के बारे में यह बहुत प्रचलित है कि वे अत्याधिक अंगप्रदर्शन करती हैं। तो इसी मौके पर आपके लिए आकांक्षा की किंगफिशर के समय की एक तस्वीर पेश है।

अब आपको ले चलते हैं आकांक्षा के धारावाहिक में जहाँ उसने अतिसुन्दर पार्वती के पात्र से सबका मन मोह लिया था। अर्थात जिस पात्र को देखकर मन में व्यभिचार और विलासी विचार नहीं आने चाहिए, उसी पात्र में उसने अपने गठीले शरीर से कामुकता का वह अमृत घोल दिया जिसका रसपान करने के लिए उसने सबको तत्पर कर दिया। आकांक्षा के उस मॉडर्न अवतार से विपरीत उसका यह पारम्परिक अवतार लोगों के लिए ज्यादा लाभदायी रहे, क्योंकि यह अवतार ही लोगों की कल्पनाओं को पंख देता है।

हालाँकि आकांक्षा के इस पात्राभिनय से मुस्लिमों में ही ज्यादातर उसकी लोकप्रियता बढ़ी, क्योंकि उसके अतीत को देखकर अब यह तो स्पष्ट हो चूका था कि गठीले अंगों वाली इस आकांक्षा के अंदर उमड़ रहे ज्वालामुखी को संतुष्टि देना किसी साधारण पुरुष का काम नहीं है। अपनी करतूतों से वह अपनी चूत की चुदास भी साबित कर चुकी है। और यह तो सब जानते ही हैं कि ऐसी औरतों की चुदास शांत करने के लिए मुस्लिमों से बढ़कर और कोई नहीं। और मेरी इस बात का प्रमाण है आकांक्षा की यह तस्वीर जो कि एक अवॉर्ड फंक्शन की है। फर्क और इरादें साफ़ हैं। अपने पारम्पारिक धारावाहिक के चलते भी आकांक्षा कुछ इस तरह से तैयार होकर फंक्शन में आयी थी; यह दिखाने कि इन बड़े स्तनों और गठीले अंगों को असली मर्द की जरूरत हैं। हाँ, इसके इस वेश पर कुछ लोगों ने अपनी असहमति भी जताई थीं; लेकिन आकांक्षा भी धर्म-निरपेक्ष हिन्दू औरतों में से है, जिनका लक्ष्य होता है कटमुल्लाह!

अब आपको दिखाते हैं कुछ ऐसी तस्वीरें जो आकांक्षा के सही इरादों पर और प्रकाश डालेंगी। अर्थात आकांक्षा के दो विपरीत रूपों से लोगों को उकसाने और अपनी ओर आकर्षित करने के पैतरे की। यही होती है असली धार्मिक हिन्दू रंडियों की पहचान! कि कैसे वे अपने हिन्दू नारी के गुणों के माध्यम से मुस्लिम लंड के प्रति अपनी चुदास दिखाती हैं।

अब जब आप लोगों के सामने हमारी आकांक्षा पुरी का चरित्र स्पष्ट रूप से प्रदर्शित हो चूका है और उसके सारे इरादें भी साफ़ हो चुके हैं, अब समय है उसकी चुदास की चरमसीमा के विषय में बात करने का। अगर आप समझते हैं कि आकांक्षा का अपने कामुक शरीर के साथ इंडस्ट्री में सफर यहीँ तक था, तो आप गलत हैं। अब जो तसवीरें पेश होने वाली हैं वे आकांक्षा की चूत की असंतुष्टि और उसकी मुस्लिम लंड के लिए चरमसीमा तक पहुँच चुकी प्यास को पूर्णतः प्रदर्शित करेंगी।

जिन अदाओं से यह अपने गठीले शरीर को मरोड़कर हमारे सामने पेश कर रही है, इससे इस हिन्दू रांड के बदन की प्यास और उसकी पवित्र चूत की चुदास का सही सही अंदाजा लगाया जा सकता है। पहले किंगफ़िशर में पीकर अपनी बुर चुदवायी, फिर अपनी उस छवि को सुधारने के लिए टेलीविज़न पर धार्मिक धारावाहिक में एक देवी का किरदार निभाया। लेकिन इससे इसकी चुदास इतनी बढ़ गयी के अंत में अधनंगी होकर अपने चूँचे दबवाकर और अपनी गांड हिलाकर कुत्तिया बनकर मर्दों को न्यौता देने लगी। और जिस तरह की धार्मिकता इसके पारम्परिक वेश में इसके चेहरे से छलकती है, यह तो साफ़ है कि यह किसे न्यौता दे रही है। इसका गठीला जिस्म, इसकी मोटी जांघें और इसकी गदरायी हुयी गुद्देदार गांड चींख-चींखकर मुस्लिमों के अमोघ हथियारों का आह्वान कर रहे हैं। अगर अब भी विश्वास न हो रहा हो तो इस अंतिम तस्वीर को देखकर इसकी चूत में लगी आग को और स्पष्ट रूप से देख लें।

One thought on “आकांक्षा पुरी की चुदास

  1. Bahot khub likha hai aapne. Is tareh ka vivaran padhne me hi anandmayi hai. Aur is baat ko nakara nhi jaa sakta ki jo aurat parvati ka roleplay kar leti hai uski chudass jyada badh jati hai. Shayad ye devi ka hi ashirvad hai. Inke madmast chudato ka tattoo inki pavitrata ko darsha raha hai. Aur sath hi sath inke chuche ko golai maano muslim lund ko aahwahan de rhe ho. Jai ho devi aakansha ki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *