Stories

मै मेरी मा और करीम पार्ट 5

दोस्तो मैने फैसला किया था कि में इस स्टोरी आगे नहीं लिखूंगा लेकिन मुझे ईमेल में लोगों ने इतनी रिक्वेस्ट की में मजबूत हो गया,उम्मीद है इस बार रिप्लाइ जरूर आएगा
तो शुरू करते है अगला पार्ट

सुधिया के जाने के बाद मधु देवी की हालत उस मछली जैसी हो गई थी जो बिना पानी के बाहर तड़प रही हो,मधु देवी की चूत में आग लग चुकी थी,सुधिया ने मधु देवी के शरीर में ऐसी आग पैदा कर दी थी जो अब शायद करीम से चुदने के बाद ही मिटने वाली थी
और कल करीम के मुसलमानी लंड के दर्शन की कल्पना मात्र से ही मधु देवी इतनी उत्तेजित हो गई थी कि उससे पता ही नहीं चला कि कब उसकी उंगलियां चूत के अंदर चली गई जो चुदाई की उत्तेजना से बहुत जादा पानी छोड़ रही थी
मा अभी भी नंगी ही थी,और चूत में उंगलियां अंदर बाहर कर रही थी,मा को देखते देखते पता नहीं मेरे लन्ड ने कितना पानी छोड़ा था,और अब मेरा बेचारा लंड खड़ा ही नहीं हो पा रहा था,मेरी इस हालत में आपने आप को देखकर मेरी नजर में करीम की इज्जत और बाद गई,क्यों हिन्दुओं में जितनी जड़ा खूबसूरत औरत होती है उसके साथ उतना ही काम चुदाई कर पाते है जब मुसलमान के सामने जितनी अच्छी और खूबसूरत औरत होती है वो उसको इतना ही रगड़ रगड़ के चोदते है और सामने कोई हिन्दू खूबसूरत औरत हो तो वो तो गई काम से,क्यों की मैने भी कई बार मुठ मारी थी लेकिन आज मा के गदराए शरीर को देखकर मेरे लन्ड ने पता नहीं कितनी बार पानी छोड़ दिया, ऐसे में अगर मा मेरे सामने भी आ जाए और बोले की मेरे साथ सेक्स करो तो शायद लंड अंदर घुसने से पहले ही पानी छोड़ दे और अगर अंदर भी चला गया तो भी जादा टीक नहीं पाएगा
अब तो मैने अपना मन पक्का कर लिया था कि मा को कैसे भी करके उस मुसलमान वेध से चुदवाना पड़ेगा,और में सुधिया और करीम का प्लान जानता था और मा और सुधिया को नंगी देखकर और उनकी बाते सुनकर में बहुत जादा उत्तेजित हो गया था ,भले ही मेरे लन्ड की हालत नहीं थी लेकिन मुझे किसी ना किसी को चोदना था ,और मेरी नजर में केवल सुधिया काकी ही थी जो खुद मुझसे चुदना चाहती थी,में तुरंत वहां निकाल गया और सीधा सुधिया काकी के घर जाने लगा ,रास्ते में सोच रहा था कि कैसे सुधिया के साथ चुदाई करू ,क्योंकि मुझे चुदाई तो करनी ही थी और मेरे अंदर डर भी नहीं था क्योंकि में करीम और सुधियां का राज जानता था,में सीधा सुधिया काकी के घर पहुंच गया
सुधिया काकी मुझे देखकर बोली अरे रामू तुम यहां कैसे
में थोड़ा निडर बनते हुए बोला “”बस मुझे काम है तुमसे “”
क्या काम है रामू,और यह कहकर सुधिया काकी मेरी तरफ गांड करके नीचे से एक मटकी उठाने लगी ,मैने ना आव देखा ना ताव में सीधा जाकर सुधिया को पीछे से पकड़ लिया और मेरा लन्ड सुधिया की बड़ी गांड में फस गया
मेरी इस हरकत से सुधिया हक्की बाकी रह गई
अरे रामू ये क्या कर रहे हो और सुधिया सीधी होने लगी लेकिन मैने उसको छोड़ा नहीं ,मैने उसकी कमर को अपनी बाहों के जकड़ लिया था और अपना लंड सुधिया काकी की गांड़ के अंदर और जोर से दबाने लगा
कुछ नहीं काकी ,में तो वहीं कर रहा हूं जो तुम चाहती थी
काकी को कुछ समझ नहीं आया और बोली में क्या चाहती हूं बेटा
वहीं की तुम मेरी मा को करीम से चुदवाना चाहती हो
इस बात पर सुधिया हक्की बल्कि रह रही गई और शायद दर भी गई
अरे नहीं बेटा ऐसा कुछ नहीं है
में आजतक सुधिया काकी से बहुत ही ढंग से बात की थी लेकिन आज मे उनके सामने खुलकर चुदाई जैसे सब्द काम में ले रहा था
नहीं काकी में सब कुछ सुन चुका हूं तुम कैसे मा की मालिश करते हुए उस करीम से चुदवाने की बात कर रही थी
सुधिया हड़बड़ा गई थी ,नहीं नहीं बेटा ऐसा कुछ भी नहीं हुआ
मैने अपना लन्ड इर अंदर बदया और बोला कि चिंता वाली बात नहीं है वो सब तुम्हारी बीच की बात है लेकिन अगर तुम मुझे चोदने दो तो में किसी को कुछ नहीं कहूंगा
सुधिया को अब थोड़ा आराम मिला कि में किसी को ये नहीं बताने वाला हूं
सुधिया बेटा तो तुम सब सुन रहे थे
अब अब हल्के हल्के हाथों से सुधिया की गांड़ को सहलां रहा था और बोला हा काकी
क्योंकि में मा को जल्दी से जल्दी करीम से चुदवाना चाहता था तो मैने बोला हा सुधिया काकी,लेकिन में किसी से कुछ नहीं कहूंगा अगर तुम मुझे चोदने दो
सुधिया मुस्कुराती क्यों की वो जानती थी कि अब वो किसी खतरे में नहीं है
अब में सुधिया काकी के चूचियां दबाने लगा,बहुत ही मुलायम थे सुधिया काकी के चूचियां
सुधिया -तुम्हे बुरा नहीं लग रहा कि तुम्हारी मा किसी और से चुदाई करवाएगी
रामू – हा बुरा तो लगेगा ही लेकिन अगर मा भी चुदवाने को मिल जाती तो फीर कोई दुख नहीं होता कि उससे कों चोद रहा है
लेकिन सुधिया को तो ये पता ही नहीं था कि में खुद चाहता था कि वो मुसलमान वेद अपने मुसलामनी लंड से मेरी मा को ऐसे चोदे की उसकी हालत खराब हो जाए लेकिन वो किसी तरह का रहम नहीं दिखाए
सुधिया- अगर तू साथ दे तो मधु देवी को तुझसे चुदवा सकती हूं और उसे तेरी गुलाम बना सकती हूं, बोल क्या कहता है
रामू – हा में साथ में हूं अगर मेरी मा मुझसे चुदने को राज़ी हो जाती है
सुधिया – उससे तो में देख लूंगी ,तो तू बूला तू सच में मधु देवी के साथ चुदाई करना चाहता है
रामू – हा ,में मा को चोदने लिए कुछ भी कर सकता हूं,आजतक हिम्मत नहीं हो रही थी लेकिन आज तुम्हारी बाते सुनकर हिम्मत बाद गई
सुधिया- ओह तो ये बात है ,आजकल बचे अपनी मा को चोदने चाहते है बेचारे
रामू – मेरी मा है ऐसी की उन्हे तो हर कोई चोदना चाहेगा
सुधिया – हा ये बात तो है उसका शरीर है ही इतना गदराया की उससे नंगी देखकर तो अच्छी अच्छी को पानी निकाल जाए ,तेरा नहीं निकला क्या
रामू – कई बार निकला है ,मा को आज पहली बार नंगा देखा ,सच में बहुत ही गदराया शरीर है मेरी मा का
सुधिया- तभी तो उससे ऐसे मर्द की जरूरत है कि जो उसके गदराय शरीर को निचोड़ सके
में काकी के घागरे का नाड़ा खोलने लगा ,अब सब कुछ इतना खुल गया था कि अब हम एक दूसरे से नहीं सरमा रहे थे और काकी में मेरे लन्ड को मेरी धोकी के ऊपर से ही सहलाने लगा गई थी
कुछ ही देर में काकी के घागरे का नाड़ा खुल गया सर्र से घाघरा नीचे गिर गया ,क्योंकि गाव में ब्रा और पैंटी नहीं पहनते तो सुधिया काकी पूरी नीचे से नंगी हो गई और आज पहली बार दिन के उजाले में कोई चूत इतने करीब से देख रहा था ,थोड़ी काली थी चूत लेकिन फुली हुई थी,उधर सुधिया में मेरी धोती खोलने लगा गई थी
रामू – तो करीम ही ऐसा मर्द है जो मेरी मा के गदराए शरीर को निचोड़ सकता है
सुधिया ने जब तक मेरी धोती खोल दी थी और मेरा 6 इंच का लन्ड सामने आ गया था
सुधिया- हा ,मेरी नजर में तो केवल वो ही है जो तुम्हारी मा कें गदराए शरीर को संभाल सकता है बाकी का तो देखते ही पानी निकला जाएगा
सुधिया फिर पास में ही पड़े हुए खत पे लेट गई और अपनी टांगे फैला ली और बोली “आजा””
रामू – तुम्हे कैसे पता कि करीम ही सबसे दमदार है ,तुम हरिया से भी तो चुदाई हो क्यों वो दमदार नहीं है
मैने अपना लन्ड सुधिया काकी की फूली चूत लगाया जो अभी भी गीली थी ,और एक झटका दिया और सर र र र र र से पूरा 6 इंच का लन्ड एक ही बार में घुस गया,में जानता था कि क्यों इतना आसानी से एक ही बार में पूरा लन्ड घुस गया क्योंकि सुधिया की हिन्दू चूत को करीम के 13 इंच के मुसलमनी लंड की आदत पड़ गई थी
सुधिया के मुंह से आह तक नहीं निकली
सुधिया – हरिया तो करीम के सामने कुछ भी नहीं,हरिया तो 10 मिनट तक ही चोद सकता है और तुम्हारी मा के गदराए शरीर को संभाल नहीं सकता और तुम मुसलामनो को नहीं जानते ये हिन्दू औरतों को चोदना बहुत पसंद करते है,ये बचपन से ही यही सोच के साथ बड़े होते है और जितनी अच्छी हिन्दू औरत इन्हे मिलती है ये उतना ही बुरी तरह चोदते है
में झटके लगाने लग जाता हूं,मेरा लन्ड बहुत ही आराम से दूधिया काकी की चूत के अंदर बाहर हो रहा था
रामू – तो तुम करीम से भी चुदी हो
सीढ़ियां – ये बात किसी को बताना नहीं की करीम से चुदी ही
रामू – तो सच में करीम तुम्हे चोदता है,मा के सामने तो कह रही थी कि तुम करीम से कभी नहीं चुदी बस उसका लन्ड देखा है
सुधिया – तेरी मा के सामने बोलना पड़ता है बेटा
हम लोग चुदाई कर रहे थे लेकिन बाते करीम और मधु देवी की कर रहे थे क्योंकि ये चुदाई तो बस एक बहाना थी सब इंतज़ार कर रहे थे मधु देवी और करीम की चुदाई का
रामू – तो सच में उसका लन्ड 13 इंच बड़ा है क्या
सुधिया – हा बेटा ,उसका सच में 13 इंच बड़ा है और क्योंकि वो एक मुसलमान है तो उसके लन्ड की ऊपर की चमड़ी भी नहीं है जो जब वो चुदाई करता है तो बहुत रगड़ रगड़ के अंदर बाहर होता है
रामू – और कितना देर तक चोदता है वो
सुधिया – 1 घंटा तो बहुत कम है ,
में नाटक करते हुए बोला “”क्या 1 घंटा ,इतनी देर तक कोई चुदाई कर सकता है क्या
सूधिया – अरे वो मुसलमान है ,बचपन में ही इनके लंड के ऊपर की चमड़ी काट दी जाती है और मीट खाने की वजह से इतनी ताकत आ जाती है और फिर उनके समाज में सब औरते एक दूसरे से चुदवाती है ,तो ये सब बचपन से ही चुदाई करते आते है और जवान होते होते ये इतने ताकतवर हो जाते है कि एक बार तो रंडी भी हाथ जोड़ने लग जाती है जब ये अपनी औकात पर आते है चुदाई करने पर
मुझे 3- 4 मिनट ही हुए तो सुधियां काकी को चोदते हुए की मेरा लन्ड अकड़ गया ,सुधिया काकी तुरंत वहां से हटी और मेरा लन्ड मुंह में ले लिया और तभी मेरे लन्ड से निकले वीर्य को काकी अपने मुह में लेकर निगल गई
मेरा लन्ड सिकुड़ गया और 2 इंच हो गया और और में अपनी धोती उठा कर पहने लगा कि और बोला की “” इतना बड़ा लंड और इतनी देर चुदाई की ताकत से तो करीम मेरी मा की हालत खराब कर देगा
सुधिया – हा वो तो है वो मधु को तो इतनी बुरी तरह चोदेगा की वो रोने पर मजबूर हो जाएगी,और पूरे दिन ढंग से चल भी नहीं पाएगी
रामू – अच्छा
सुधिया – हा ,हर औरत मुसलमान से चुदवाने बाद लंगड़ा कर चलने पर मजबूर हो जाती है क्यो की ये चुदाई की ऐसी करते है
रामू – तो मेरी मा को कैसे राज़ी करोगी मुझसे चुदवाने के लिए और करीम से चुदवाने लिए
सुधिया – एक बार तेरी मा करीम से चुद जाए तो वो मेरे काबू में जाएगी फिर में बड़े आराम से तेरे से चुदवा सकती हूं,लेकिन सबसे पहले तेरी मा को करीम से चुदवाना पड़ेगा और तेरी मा लगभग तैयार ही है अब देखना है कल क्या होता है
रामू – कल तुमने प्लान बनाया है कि कैसे करीम अपना लन्ड मधु देवी को धिखाएगा
सुधिया- हा,और जब वो करीम का कटा लंड देख लेगी तो फिर वो उससे चुदवा कर ही मानेगी,बस कल तुम कैसे भी करके घर पर ही रहना
रामू – ठीक है काकी,में कल घर पर ही रहूंगा,लेकिन मेरी बात याद रखना कि तुम्हे मेरी मा को चुदवाना है मुझसे
सुधिया – हा वो तो पक्का कर दूंगी लेकिन तुमसे पहले उससे करीम चोदेगा
में मन ही मन बोला की में भी यही चाहता हूं मेरी मेरी मा मधु देवी को करीम ही चोदे
रामू – में चलता हूं मा के पास ,और में कल घर पर ही रहूंगा
और फिर में निकल जाता हूं
आज पहली चुदाई करके कुछ जादा अच्छा महसूस नहीं रहा था जितना सुधिया के सामने खुल कर हो रहा था,अब में सुधिया के सामने खुल कर मा और करीम के बारे गंदी बाते कर सकते थे
में जल्दी ही मा के पास पहुंच गया ,मेरी मा मुझे देख कर बोली “”आ गया बेटे””
रामू – हा मा,भूक लगी है खाना खा ले क्या
मा – बस बेटा कुछ देर रुक जाता ,अभी बना देती हूं
में मा के गदराए शरीर को निहार रहा था ,बहुत ही गदराया शरीर था लेकिन अब बहुत जल्दी ये गदराया शरीर करीम पूरी तरह निचोड़ने वाला था
में बोला की “”मा कल सोच रहा हूं कि कल पास के ही गाव में रह रहे दोस्त से मिल आऊ,सुबह जाएगा और शाम तक आ जाऊंगा”
मा – हा हा बेटा ,मिल आओ दोस्त से
में जानता था कि मा उस करीम का मुसलमानी लंड देखने के लिए बहुत उत्सुक है
रामू – ठीक है मा , कल सुबह निकल जाऊगा
फिर हमारा दिन वैसे ही निकला गया

अगली सुबह में बहाना करके निकाल गया
सुधिया ने करीम को बता ही दिया था कि क्या करना है
में दूर से नजर रख रहा था ,दिन में करीम आया गया,और कुटिया में घुस गया,दोनों जानते थे कि क्या करना है,
मा – करिम जी कैसे हो
करीम – बस ठीक हूं मधु देवी जी
मा – में बहुत दिनों से सोच रही थी कि आपको खाने पर बुलाऊं,तो आज मोखा मिल ही गया
करीम – बहुत बहुत मेहरबानी आपकी,रामू कहा गया
मा – वो आज पास के गाव में अपने दोस्त से मिलना गया है
करीम – अच्छा, थोड़ा पानी पिला देना
मा – पिलाती है ,मा तुरंत उठ कर पानी का गिलास भर कर करीम को देती है
करीम बड़ी चालाकी से पानी का गिलास पकड़ते हुए मा के हाथो की छू लेता है ये बात मा भी जानती है लेकिन कुछ नहीं बोल ती
फिर मा खाना बनाने लग जाती है ,और इधर उधर की बाते करने लग जाते है
करीम तो बस मा के गदराए शरीर को देखकर पागल होता जा रहा था वो बस उस पल का इंतज़ार कर रहा था जब वो मधु देवी को पूरी नंगी करके उसके गदराए शरीर को निचोड़े और अपना मुसलमानी लंड उसकी हिन्दू चूत में डालकर बुरी तरह रगड़ रगड़ के चोदे

फिर मा ने करीम जी को खाना खिलाया ,करीम जब भी मा नीचे झुकती तो करीम मा की बड़ी बड़ी चूड़ियों को निहारता,करीम तो बस आहे भरता जा रहा था

करीम ने अपना जाल बिछाया और सोचने लगा मुझे कैसे भी करके अपना मुसलमानी लंड मधु देवी की दिखाना पड़ेगा तो उससे मधु देवी से पूछा कि पेशाब करने की जगह कहा पर है
मधु देवी ने कहा कुटिया के पीछे चले जाओ
करीम कुटिया के पीछे गया और अपना बड़ा का मुसलमानी लंड निकालकर धीरे धीरे मूतने लगा,करीम चाहता था कि मधु देवी उसका लन्ड कुटिया के अंदर बड़े एक छोटे से छेद से देखने की कोशिश करेगी और हुआ भी ऐसा ही,मधु देवी बहुत धीरे से उठी ,और कुटिया के दीवार के पास गई जिस तरफ पेशाब की जगह है ,मधु देवी ने वाहा बने एक छोटे से छेद से देखने की कोशिश करने लगी,करीम भी ऐसे खड़ा था कि उस छेद से उसके मुसलमानी लंड के दर्शन ले सके ,मा ने जैसे ही करीम का बड़ा मुसलमानी लंड देखा मा की आंखे फटी की फटी रह गई,आज तक मा ने सुना भी नहीं था कि इतना बड़ा लंड भी होता है और यह करीम का 13 इंच का इतना बड़ा लंड देख कर मा की हिन्दू चूत में सरसराहट दौड़ गई ,मधु देवी आज तक केवल 5 इंच के लंड से चुदी थी और वो भी सालो पहले लेकिन आज करीम के मुसलमानी लंड ने मधु देवी की चूत को विचलित कर दिया था
मा बस करीम के लंड को देखने जा रही थी ,मा जानती थी कि मुसलमानों के लंड के ऊपर की चमड़ी काट दी जाती है लेकिन ये पता नहीं था कि उनके इतने बड़े लंड होते है
करीम को पता चल गया था मधु देवी उसके लन्ड को देख रही है इसलिए वो वहीं खड़ा खड़ा अपने लंड पर हाथ फेरने लगा
मा को यकीन ही नहीं हो रहा था कि करीम का सच में इतना बड़ा लंड है ,उसका लन्ड किसी मोटे खुटे कम नहीं था,मधु देवी के शरीर में डर साथ एक रोमांच भी आ रहा था क्योंकि मधु देवी जानती थी अगर वो इस मुसलमानी लंड से चुदी तो ये उसकी चूत की चटनी बना देगा और वो ये भी जानती थी कि मज़ा भी बहुत आएगा
कुछ देर बाद करीम ने अपना लन्ड वापस पजामे में रखा और वापस कुटिया में आ गया
फिर कुछ देर बात हुई ,फिर करीम निकाल गया

दोस्तो अब अगले पार्ट में मधु देवी की जबरदस्त चुदाई होने वाली है
और ये पार्ट कैसा लगा जरूर बताए

suggestion and chat – [email protected]

13 thoughts on “मै मेरी मा और करीम पार्ट 5

  1. Bhai mummy ko dr se chudwane ke liye apne hato se nangi karna mummy ko aur mummy ki chut me apne hath se dr ka lund pakadkar dalna bhai maza ajayega

    1. buri kyu lagegi,balki ye to muje bahut achi lagi
      khul kar boola karo,tum muje mere email pe chat kar sakti ho
      desilauda4u

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *